मंत्री नहीं करते सुनवाई, नाराज विधायकों ने CM से कही ‘मन की बात’

minister-does-not-hear-the-hearings-angry-MLAs-meet-with-cm-kamalnath

भोपाल| मध्य प्रदेश के दो माह की सरकार में मंत्रियों के रवैये से नाराज विधायक खुलकर सामने आ गए हैं|  कांग्रेस के लगभग दो दर्जन नए विधायकों ने गुरुवार को सीएम हाउस में कमलनाथ से मुलाकात कर परेशानियां बताईं। विधायकों का आरोप है कि मंत्री उनकी सुनते नहीं हैं, मनमाने ढंग से उनके क्षेत्र में तबादले किये जा रहे हैं, उनकी सहमति नहीं ली जा रही है| जिससे नाराज होकर इन विधायकों ने एक क्लब बनाया है| विधायकों ने मुख्यमंत्री कमलनाथ से मिलकर मंत्रियों की शिकायत की है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पहली बार चुन कर आए विधायकों को आश्वस्त किया है कि उनकी समस्याओं को हल किया जाएगा। 

दरअसल, प्रदेश में ताबड़तोड़ तबादले किये जा रहे हैं, जबकि विधायकों की नाराजगी है कि इसमें उनकी सहमति नहीं ली जा रही है| मंत्री और अधिकारी उनकी बात नहीं सुनते। कार्यक्रमों की जानकारी नहीं दी जाती। सरकार की उपेक्षा से नाराज करीब दो दर्जन से अधिक विधायकों ने एक क्लब बनाया और मुख्यमंत्री से मुलाकात की बात कही| जिसके बाद विधायकों ने पहले विधानसभा में सीएम से मुलाकात की,शाम को सीएम ने मुख्यमंत्री निवास में पहली बार के कांग्रेस विधायकों के साथ बैठक कर उनकी समस्याएं सुनीं। विधायकों ने कहा कि मंत्री उनको तवज्जो नहीं दे रहे हैं। मंत्रियों के यहां उनके कोई काम नहीं हो रहे।

विधायकों ने कहा कि तबादलों में भी उनकी सुनवाई नहीं हुई। कांग्रेस के पहली बार के विधायकों ने न्यू क्लब बनाया है, जो सीएम के सामने समय-समय पर अपनी बात रखेगा। मंत्रियों ने सीएम को कुछ सुझाव भी दिए हैं जिससे उनकी मुश्किलें दूर हो| सीएम ने विधायकों को आश्वस्त किया है कि उनकी समस्याओं को हल किया जाएगा। इसके लिए सचिव स्तर के एक अधिकारी को नियुक्त किया जाएगा। सीएम ने लगभग 30 मिनट तक उनसे चर्चा की। उन्होंने विधायकों से कहा कि प्रभारी मंत्रियों को कहा गया है कि वे अपने दौरों में विधायकों को साथ रखें। विधायकों की नाराजगी ऐसे समय चर्चा में आई है जब विपक्ष में बैठी भाजपा सरकार बनाने के दावे कर रही है, ऐसी स्थिति में नाराज विधायकों को साधना मुश्किल हो रहा है| 

निर्दलीय शेरा ने दिखाए तीखे तेवर 

कमलनाथ सरकार का समर्थन कर रहे बुरहानपुर के निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा ने एक बार फिर तीखे तेवर दिखाए हैं| जिला कांग्रेस कमेटी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव को भी आड़े हाथों लिया| निर्दलीय विधायक ने कहा कि जिले में जो फ्रॉड कांग्रेस है, अरुण यादव उन्हें संरक्षण देते हैं, लेकिन मेरी सीएम कमलनाथ से मांग है कि ऐसे लोगों को कांग्रेस से हटाया जाये| उन्होंने कहा कि उनकी नाराजगी इसलिये है कि, बुरहानपुर जिले में जो नेता कांग्रेस के सर्वे सर्वा बने हुये है उन्ही लोगों ने सोनिया गांधी के पुतले जलाये थे| उस वक्त ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर भी की गयी थी, लेकिन, फिर भी वे लोग जिला कांग्रेस कमेटी में शामिल है| जबकि इन लोगों को संरक्षण देने का काम अरुण यादव करते हैं| मेरी सीएम कमलनाथ से मांग है कि ऐसे लोगों को तुरंत ही पार्टी से हटाया जाये|सुरेंद्र सिंह ने कमलनाथ मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किए जाने पर कहा है कि सीएम कमलनाथ ने मुझसे वादा किया था, मैंने अपना काम कर दिया, अब उन्हें अपना वादा निभाना है|