minister-lakhan-singh-yadav-pain-out-on-defeat-of-congress-in-mp-

भोपाल|   लोकसभा चुनाव के परिणाम ने मध्य प्रदेश में सियासी हलचल मचा दी है| एक तरफ सरकार की स्थिरता को लेकर तमाम तरह की अटकलों का दौर शुरू हो गया है| वहीं करारी हार के बाद कांग्रेस में घमासान देखने को मिल रहा है| कमलनाथ कैबिनेट में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव का दर्द छलका है| ज्योतिरादित्य सिंधिया की हार पर आश्चर्य जताते हुए मंत्री ने कहा कि सिंधिया जैसे लोकप्रिय नेता का हारना कांग्रेस के लिए बड़ा नुकसान है| एक सवाल के जवाब में उन्होंने यह भी कहा कि सीएम कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देना चाहिए, उन्होंने चुनाव से पहले अध्यक्ष पद छोड़ने का अनुरोध किया था| मंत्री ने बताया कि दिल्ली में होने वाली CWc की बैठक सभी राज्यों के अध्यक्षों से हार की समीक्षा होगी, पूरे देश में कांग्रेस की स्तिथि चिंताजनक है, इसलिए समीक्षा होनी भी चाहिए| 

मीडिया से चर्चा में पशुपालन मंत्री लाखन सिंह यादव ने प्रदेश में सरकार पर संकट को लेकर दावा किया कि कमलनाथ सरकार पूरे पांच साल पूर्ण बहुमत के साथ चलेगी| कांग्रेस फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार है, उन्होंने कहा हम दो बार अपनी अग्निपरीक्षा दे चुके हैं और आगे भी देने के लिए तैयार हैं| विधायक दल की बैठक पर लाखन सिंह यादव ने कहा विधायकों से हार को लेकर बैठक में मंथन होगा| इस दौरान मंत्री यादव ने बीजेपी पर विधायको को तोड़ने की कोशिश करने का आरोप भी लगाया| उन्होंने कहा बीजेपी द्वारा सरकार बनने से लेकर अब तक लगातार विधायको को तोड़ने की कोशिश की जा रही है| उन्होंने कहा बीजेपी अपनी इस कोशिश में कभी कामयाब नहीं हो पाएगी| 

सिंधिया का हारना चिंताजनक

 मंत्री लाखन सिंह यादव ने देश भर में कांग्रेस की स्थिति पर चिंता जताई| गुना से ज्योतिरादित्य सिंधिया के चुनाव हारने पर कहा सिंधिया का हारना आश्चर्यचकित करने वाला था, सिंधिया का हारना चिंताजनक है, यह पूरे कांग्रेस के लिए बड़ा नुक्सान है| उन्होंने कहा कि बीजेपी ने विकास नहीं बल्कि राष्ट्रवाद के मुद्दे पर चुनाव लड़ा और जीते, पूरे देश में मोदी फैक्टर चला| वहीं इस बड़ी पराजय के बाद जिस तरह से इस्तीफे की पेशकश का दौर शुरू हो गया है, ऐसी स्तिथि में कमलनाथ के प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफे के सवाल पर मंत्री ने कहा सीएम कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए, उन्होंने लोकसभा चुनाव से पहले प्रदेश अध्यक्ष का पद छोड़ने का अनुरोध किया था| दिल्ली में होने वाली CWC की बैठक को लेकर लाखन सिंह यादव ने कहा सिर्फ कमलनाथ नहीं पूरे देश के प्रदेश अध्यक्षों से हार की समीक्षा इस बैठक में होगी, पूरे देश में कांग्रेस की स्थिति चिंताजनक है, जिसकी समीक्षा होनी चाहिए| 

कमलनाथ कर सकते हैं इस्तीफे की पेशकश 

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के बाद से ही कमलनाथ के प्रदेश अध्यक्ष पद छोडऩे की चर्चा थी| लेकिन आम सहमति नहीं बन पाने और हाईकमान की और से चुनाव तक दोनों पद सँभालने के निर्देश के बाद सीएम कमलनाथ दोनों पद की जिम्मेदार देख रहे थे| लोकसभा चुनाव के परिणाम को देखते हुए कमलनाथ इस्तीफे की पेशकश कर सकते हैं| मंत्री ने भी इसके संकेत दिए हैं, क्यूंकि वे दो बड़े पद एक साथ संभाल रहे हैं, ऐसे में दोनों पदों पर न्याय नहीं हो सकता|  वहीं लोकसभा चुनाव में पराजय के बाद राहुल गांधी नई दिल्ली में कांग्रेस कार्यसमिति की शनिवार को होने वाली बैठक में इस्तीफा दे सकते हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि कमलनाथ के प्रदेश अध्यक्ष पद छोडऩे के प्रस्ताव को मान लिया जाए। हालांकि, कमलनाथ इस बैठक में शामिल नहीं हो रहे हैं। वहीं भोपाल में 26 को विधायक दल की बैठक कमलनाथ ने बुलाई है, इस बैठक में नाथ बड़ा फैसला कर सकते हैं|