इन मंत्रियों के लिए सीएम नहीं ‘महाराज’ हैं खास, मंत्रालय में भी बदली तस्वीर

minister-tomar-put-scidia-pictur-ein-his-office

भोपाल। मध्य प्रदेश में नई सरकार वजूद में आ गई है। मंत्रियों को उनके विभाग भी बांट दिए गए हैं। प्रदेश की कमान मुख्यमंत्री कमलनाथ के हाथ में है लेकिन कैबिनेट में अलग-अलग गुट के मंत्रियों के लिए उनके क्षत्रपों सीएम से भी पहले हैं। इस बात का अंदाजा विभाग में पदभार ग्रहण करते ही मंत्रियों ने दे दिया है। 

सिंधिया गुट से मंत्री बनाए गए प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अपने कक्ष में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्व माधवराव सिंधिया, ज्योतिरादित्य सिंधिया की तस्वीर लगाई लेकिन सीएम कमलनाथ की तस्वीर उनके कक्ष में नहीं दिखाई दी। तोमर खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री हैं। वह सिंधिया के बेहद खास माना जाते हैं। जब उनसे सवाल किया गया कि उन्होंने महात्मा गांधी, राष्ट्रपति या फिर प्रधानमंत्री की तस्वीर क्यों नहीं लगई। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी, राहुल गांधी और मुख्यमंत्री कमलनाथ की भी फोटो उनके कक्ष में जल्द लगाया जाएगा। 

वहीं, महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने पहले दिन ही अपने नेता के बारे में ऐलान कर दिया। उन्होंने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि वह महाराज के नेतृत्व में अपने कामकाज को अंजाम देंगी। उन्होंने कहा कि जिस तरह से महाराज ने उनपर विश्वास जताया है वह इस जिम्मेदारी को पूरी निष्ठा के साथ काम करेंगी।

पहले कहा जा रहा था कि मंत्रियों को विभाग बंटवारे का फैसला मुख्यमंत्री ने लिया है। लेकिन इमरती देवी के बयान से ये बात साफ हो गई है कि उनको ये विभाग दिलाने में सिंधिया का बड़ा योगदान रहा है। बता दें मंत्री मंडल में सिंधिया खेमे से सात मंत्रियों को शामिल किया गया है