MP Board 2020 : सोमवार को डेढ़ लाख से ज्यादा छात्र देंगे रुक जाना नहीं योजना के तहत परीक्षा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट

मध्य प्रदेश की रुक जाना नहीं योजना के तहत एमपी बोर्ड के 10वीं और 12 वीं में फेल हुए लगभग 1.50 लाख से ज्यादा छात्र परीक्षा देंगे। इस परीक्षा को मध्य प्रदेश राज्य ओपन मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित किया जा रहा है , साथ ही आईटीआई समकक्ष, राज्य ओपन स्कूल, मदरसा बोर्ड और सीबीएससी ऑन डिमांड के करीब 11 हजार छात्र एग्जाम देंगे।

वहीं राज्य ओपन स्कूल के डायरेक्टर प्रभात आर तिवारी ने बताया कि 10 वीं और 12 वीं के फेल छात्रों का साल बचाने के लिए सरकार द्वारा रुक जाना नहीं योजना को लाया गया था। सोमवार को फेल छात्रों के लिए परीक्षा आयोजित की जा रही है। साथ ही उन 12 वीं के छात्रों के लिए स्पेशल परीक्षा आयोजित की जा रही है जो इस बार परीक्षा देने वंचित रह गए। वहीं आगे उन्होंने कहा कि इस बार कोरोना काल के चलते तीसरी बार परीक्षा  आयोजित की जा रही है। 10 वीं कक्षा के 85,630 छात्र और 12 वीं के 67,600 छात्र एग्जाम देंगे। वहीं पूरे प्रदेश में कुल 462 परीक्षा केंद्र बनाए गए है।

आगे प्रभात आर तिवारी ने बताया कि कोरोना से संक्रमितों को परीक्षा केंद्रों में प्रवेश की अनुमति नहीं है, उनके पेपर अस्पताल में ही आयोजित किए जाएंगे। फिलहाल मिली जानकारी के मुताबिक अब तक कोरोना से संक्रमित एक-एक छात्र जबलपुर और मंदसौर में है, जिनके पेपर देने की व्यवस्था अस्पताल में की जाएगी। वहीं इस बार किसी कारण पेपर में शामिल होने वाले छात्रों की दोबारा दिसबंर में परीक्षा आयोजित की जाएगी।

इन नियमों का करना होगा पालन

  • कोरोना संक्रमण के कारण एग्जाम सेंटर पर छात्रों को एक घंटे पहले पहुंचना होगा।
  • थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही छात्रों को एंट्री दी जाएगी।
  • पेपर के दौरान सभी छात्रों को मास्क पहन कर रखना होगा।
  • सोशल डिस्टेंस का पालन करना अनिवार्य होगा।