भरे मंच से बोले सीएम शिवराज- लापरवाही और भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं, 2 अधिकारियों को किया तत्काल प्रभाव से निलंबित

साथ ही CM Shivraj ने भरे मंच से जिला आपूर्ति अधिकारी और फूड इंस्पेक्टर को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया।

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। इन दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) एक अलग ही रूप में नजर आ रहे हैं। अफसरों को लगातार हिदायत देने के साथ ही भ्रष्टाचार (corrupt) में संलिप्त अफसरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। इसी बीच राजगढ़ और विदिशा के लटेरी तहसील में ओला प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने पहुंचे। सीएम शिवराज ने अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित (Suspend) कर दिया।

दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ओला प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने के लिए लटेरी गांव पहुंचे थे। इस बार फसल के नुकसान का जायजा लेने के साथ उन्होंने किसानों से चर्चा शुरू की। किसानों से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि आपका मुख्यमंत्री जीवित है। फसल के एक-एक नुकसान की भरपाई की जाएगी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भरे मंच से कहा कि मुझे एक शिकायत मिली है। राशन में अफसरों की मिलीभगत के कारण गरीबों का राशन उन तक पर्याप्त रूप से नहीं पहुंच पा रहा है। सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने कहा कि ग्राम कालीपीठ में राशन से संबंधित शिकायत प्राप्त हुई है। मैं फिर से कह रहा हूं कि गरीब का राशन अगर किसी ने खाया तो उसे किसी कीमत पर नहीं छोड़ा जाएगा। सब को जेल भिजवा लूंगा।इसके साथ ही CM Shivraj ने भरे मंच से जिला आपूर्ति अधिकारी और फूड इंस्पेक्टर को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया।

Read More : Punjab Election : कांग्रेस ने जारी की सूची, चन्नी-सिद्धू इन सीटों से लड़ेंगे चुनाव

CM शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में किसी भी तरह के भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। भाइयों और बहनों को 5 किलो महीना मोदी जी के द्वारा निशुल्क 5 किलो राज्य सरकार द्वारा मिल रहा है। पता चला है कि 10 किलो की जगह सिर्फ एक ही राशन देकर उन्हें निपटारा किया जा रहा है। ऐसी स्थिति में ऐसे अधिकारियों के खिलाफ धरपकड़ शुरू होगी।

वही कलेक्टर को पर्यवेक्षण ठीक से करना होगा किसी को नहीं छोड़ा जाएगा। सभी को जेल भिजवाऊंगा। इतना ही नहीं सीएम शिवराज ने कहा कि गेहूं, सरसों, चना और मसूर की फसल जहां 50% से अधिक खराब हुई है। वहां पर इसके मुआवजे के रूप में 30,000 प्रति हेक्टेयर के हिसाब से राशि प्रभावितों के खाते में लगाई जाएगी।

CM शिवराज ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि राशन की सभी दुकानों को चेक करें। कोई दुकान ना छोड़े। कालीपीठ जगह थे. कौन-कौन लोग इसमें शामिल है। उसकी गिरफ्तारी की जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह जवाबदारी किसकी थी कि राशन ठीक से बड़े जिला पूर्ति अधिकारी प्रभारी जो भी हैं। उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है। साथ ही फूड इंस्पेक्टर को भी तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाएगा।