MP College : इस बड़ी तैयारी में उच्च शिक्षा विभाग, UG कोर्स के छात्रों को होगा लाभ

MP College: : वहीं रिजल्ट तैयार करने के लिए सॉफ्टवेयर भी तैयार किए जा रहे हैं।MP College

mp college

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में उच्च शिक्षा विभाग (higher secondary department) द्वारा बड़ी तैयारी की जा रही है। दरअसल MP College UG पाठ्यक्रम में नई शिक्षा नीति 2020 (New Education policy) को लागू कर दिया गया है इसके साथ ही UG कोर्सों में मूल्यांकन के लिए New Marking System लागू किए जाने को लेकर कार्य तेजी पर हैं। माना जा रहा है कि दिवाली के बाद उच्च शिक्षा विभाग द्वारा UG Course के लिए मार्किंग को लेकर नई मार्किंग पद्धति जारी करेगा।

नई मार्किंग पद्धति के मुताबिक 80 मेजर माइनर विषय के पेपर की मार्किंग निर्धारित की जाएगी। अधिकारियों के मुताबिक मेजर विषयों में 60 से 75 अंक जबकि माइनर विषय में 50 अंक तक मार्किंग पद्धति में मूल्यांकन के लिए उपयोग किए जाएंगे। इसके लिए सात से आठ प्रश्न होंगे। इन का प्रारूप भी गाइडलाइन में ही तय किया जाएगा।

Read More: MP कर्मचारियों के लिए शासन का बड़ा फैसला, मिलेगा लाभ, आदेश जारी

मामले में अधिकारियों का कहना है कि यूजी कोर्स की मार्किंग नई पद्धति से होगी। जिसमें मार्किंग गाइडलाइन आने के बाद स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। वहीं अगले 10 दिन में विभाग गाइडलाइन जारी कर सकते हैं। उसके लिए प्रशासन मार्किंग को लेकर प्रारूप तैयार किया जाएगा। वहीं रिजल्ट तैयार करने के लिए सॉफ्टवेयर भी तैयार किए जा रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक यूजी कोर्स में प्रवेश लेने वाले छात्रों को साल भर में करीब 10 विषय पढ़ने हुए। जिनमें पांच मुख्य तीन मेजर और 2 minor विषयों के लिए विद्यार्थियों को चयन करना होगा। उनमें प्रारूपों में तीन प्रकार से मार्किंग की जाएगी। वहीं मार्किंग के मूल्यांकन के लिए नीति और निर्देश तैयार किए जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक मुख्य परीक्षा और असाइनमेंट में अलग अलग तरीके से मूल्यांकन के लिए मार्किंग पद्धति को लागू किया जाएगा।

उच्च शिक्षा विभाग की जानकारी की माने तो यह काम जनवरी तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए प्रथम वर्ष के छात्रों को मेजर माइनर विषयों का चुनाव करना होगा। इसके साथ ही विभाग दिसंबर तक विषय चयन के लिए लिंक को वेबसाइट पर अपलोड करेगी। जिसके बाद कॉलेजों को अपने अपने छात्रों का डाटा विश्वविद्यालय को सौंपना होगा।