MP College: नए सत्र से पहले छात्रों को बड़ी राहत, विभाग का बड़ा फैसला, निर्देश जारी

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर और बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल परस्पर समन्वय कर फार्मेसी के पाठ्यक्रमों की पुस्तकों का हिंदी अनुवाद करेंगे।

MP College

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग (MP Higher Education Department ) ने छात्रों के हित में बड़ा फैसला किया है।इसके तहत अब कृषि, इंजीनियरिंग, मेडिकल, फार्मेसी और प्रबंधन पाठ्यक्रम की पुस्तकों का अकादमी हिन्दी अनुवाद प्रकाशित करेगी । इसके अलावा उच्च शिक्षा विभाग की गतिविधियों पर केंद्रित मासिक पत्रिका का भी प्रकाशन होगा।यह जानकारी उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव (Higher Education Minister Dr. Mohan Yadav) ने अकादमी की वार्षिक कार्य समिति और प्रबंधन मंडल की बैठक में दी।

यह भी पढ़े.. Cabinet Meeting : यहां विस्तार से पढ़िए शिवराज कैबिनेट बैठक के अहम फैसले 

मंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के परिप्रेक्ष्य में मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी का महत्व अधिक बढ़ गया हैं। अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय, अन्य शासकीय-निजी विश्वविद्यालयों के समन्वय से कृषि, इंजीनियरिंग, मेडिकल, फार्मेसी और प्रबंधन के पाठ्यक्रमों की पुस्तकों को हिन्दी में प्रकाशित किया जाएगा ताकि हिंदी माध्यम से भी पढ़ाई हो सके। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के लागू होने के बाद अकादमी का दायित्व बढ़ गया है। मातृभाषा में पढाई को प्रोत्साहित किये जाने से अकादमी के कार्यों का विस्तार होगा। कृषि विभाग के सहयोग से कृषि विषयों के पाठ्यक्रमों और प्रदेश के निजी विश्वविद्यालयों और हिन्दी विश्वविद्यालय के समन्वय से मेडिकल की पुस्तकों को हिन्दी में प्रकाशित किया जाएगा।

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन, रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर और बरकतउल्ला विश्वविद्यालय, भोपाल परस्पर समन्वय कर फार्मेसी के पाठ्यक्रमों की पुस्तकों का हिंदी अनुवाद करेंगे। अकादमी द्वारा इसे प्रकाशित किया जाएगा। प्रबंधन विषय की पुस्तकों का भी हिंदी में अनुवाद किया जाएगा। राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय एआईसीटीई के लिए इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक के प्रथम वर्ष के पाठ्यक्रमों का हिन्दी में अनुवाद कर रहा है। इनका प्रकाशन भी किया जाएगा। उच्च शिक्षा विभाग की गतिविधियों पर केंद्रित एक मासिक पत्रिका भी प्रकाशित की जाएगी।  अकादमी द्वारा इस वर्ष स्वर्ण जयंती वर्ष मनाया जा रहा है। इस पर केंद्रित विशेषांक भी प्रकाशित किया जाएगा। इसमें प्रतिष्ठित लेखकों, चिंतकों के लेख मंगवाए जाए, यह एक अद्वितीय प्रकाशन होगा।

यह भी पढ़े.. MP Corona : फिर 9 नए पॉजिटिव, इंदौर-भोपाल में बढ़ रहे केस, CM ने मंत्रियों को दिए निर्देश

प्रभारी आयुक्त दीपक सिंह ने कहा कि मातृभाषा में पढ़ाई को बढ़ावा दिए जाने में अकादमी की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसे तकनीक से जोड़े जाने की आवश्यकता है। हिंदी ग्रन्थ अकादमी के निदेशक डॉ. अशोक कड़ेल ने कहा कि हिन्दी ग्रंथ अकादमी राष्ट्रीय अनुवाद मिशन के साथ भी कार्य कर रही है। मध्यप्रदेश हिंदी ग्रंथ अकादमी राष्ट्रीय अनुवाद मिशन, भारतीय भाषा संस्थान, मैसूर और शासकीय माधव विज्ञान महाविद्यालय के संयुक्त तत्वाधान में उज्जैन में 1 से 9 दिसंबर तक अनुवाद कार्यशाला आयोजित की जा रही है। अकादमी द्वारा भौतिकी और जीव विज्ञान के पाठ्यक्रमों की पुस्तकों का अनुवाद भी किया जा रहा है।