उच्च शिक्षा विभाग

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर मोहन यादव (Higher Education Minister Dr. Mohan Yadav) ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि अनुकम्पा नियुक्ति और पेंशन प्रकरणों (Compassionate Appointment and Pension Cases) का निराकरण शीघ्र करें।इसके साथ ही उच्च शिक्षा विभाग के निर्माण कार्यों को प्राथमिकता से पूरा करें।विश्व विद्यालयवार संबंधित महाविद्यालयों में जो निर्माण कार्य लम्बित हैं, उनका निरीक्षण किया जायेगा।

यह भी पढ़े.. VIDEO: कभी लाल बत्ती तक न लगाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया इस बार दिखें भारी सुरक्षा में

दरअसल, आज बुधवार को उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में विभाग की समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। बैठक में मंत्री मोहन यादव ने कहा कि उच्च शिक्षा विभाग  (Higher Education Department) में लम्बित अनुकम्पा नियुक्ति एवं पेंशन प्रकरणों का निराकरण शीघ्र करें। अनुकम्पा नियुक्ति के विषय में उन्होंने कहा कि कोरोना-काल में प्रदेश के जिन महाविद्यालयों में शासकीय सेवकों की मृत्यु हुई हैं, उनमें संबंधित महाविद्यालय के प्राचार्य व्यक्तिगत रुचि लेकर प्रकरणों को निपटायें।

इसके साथ ही पेंशन प्रकरणों के संबंध में समय-सीमा में कार्रवाई करें। मानवीय संवेदनाओं का परिचय दें। उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ने निर्देश दिये कि प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों (Universities and Colleges) में रूसा परियोजना (RUSA Project), विश्व बैंक या अन्य किसी मद से जो निर्माण कार्य चल रहे हैं, उन्हें संबंधित निर्माण एजेंसी से जानकारी बुलवाकर शीघ्र पूरा करें। यदि किसी निर्माण कार्य में राशि की कमी हो, तो जन-भागीदारी समिति के माध्यम से मिलकर राशि उपलब्ध कराकर छोटे-छोटे निर्माण कार्य पूरे करें।

यह भी पढ़े.. तुलसी सिलावट बोले-कोई भी फाइल ना रोकें, वन मंत्री ने कहा-15 दिन में अनुमति देने के निर्देश

उच्च शिक्षा मंत्री यादव ने कहा कि विश्व विद्यालयवार संबंधित महाविद्यालयों में जो निर्माण कार्य लम्बित हैं, उनका निरीक्षण किया जायेगा। निर्माण एजेंसी PIU, मध्यप्रदेश गृह निर्माण मण्डल, BDA, CPA और यूनिवर्सिटी इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारियों की एक संयुक्त बैठक आगामी एक सप्ताह के भीतर बुलाई जाये, ताकि निर्माण कार्यों की अद्यतन जानकारी से अवगत हो उन्हें शीघ्र पूरा कराया जायेगा। विश्व बैंक परियोजना (world bank project)  को 23 महाविद्यालयों के भवन निर्माण 30 जून तक पूरे करें। भूमि-विहीन महाविद्यालयों में भूमि आवंटन की कार्रवाई शीघ्र करें।