MP Corona : तेज हुई कोरोना की रफ्तार, 10 दिन में मिले 152 पॉजिटिव, इन जिलों की हालत गंभीर

MP Corona: प्रदेश के दो मुख्य जिले इंदौर और भोपाल के अलावा जबलपुर और ग्वालियर में भी मामले देखने को मिल रहे हैं। बीते 40 दिन में 24 जिलों में संक्रमण की रफ्तार बढ़ी है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में कोरोना (MP Corona) केसों में एक बार फिर से बढ़ोतरी देखी जा रही है। Corona के बढ़ते मामले में शासन प्रशासन के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार जिलों को सख्त निगरानी के निर्देश दे रहे हैं। इसी बीच एक महीने में कोरोना संक्रमण की संख्या दोगुनी हो गई है। इसके अलावा Corona के नए वेरिएंट Omicron  की दस्तक के साथ ही मध्य प्रदेश से बड़ी तैयारी में जुट गया।

एक तरफ जहां अस्पतालों को दुरुस्त किया जा रहा है। वहीं दूसरी तरफ बड़ी संख्या में लोगों के टेस्ट किए जा रहे हैं। अन्य राज्य सहित अन्य देशों से आने वाले पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। मध्यप्रदेश में अब 5 जीनोम सीक्वेंसिंग मशीन लगाई गई है। जिससे अब सैंपल को जांच के लिए बाहर नहीं भेजना पड़ेगा।

बता दे कि प्रदेश में 1 से 10 नवंबर के बीच 70 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं जबकि शुरुआती के 10 दिनों में 152 केस रिकॉर्ड किए गए हैं। निश्चित ही दिसंबर का यह आंकड़ा नवंबर के आंकड़ों से दुगना है। इसके अलावा प्रदेश में एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 156 पहुंच गई है।

देशभर में Omicron के अब तक 35 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। जिसके बाद मध्य प्रदेश में प्रशासन अलर्ट पर है। प्रदेश के दो मुख्य जिले इंदौर और भोपाल के अलावा जबलपुर और ग्वालियर में भी मामले देखने को मिल रहे हैं। बीते 40 दिन में 24 जिलों में संक्रमण की रफ्तार बढ़ी है।

Read More : पुलिस कमिश्नर प्रणाली से कानून व्यवस्था में जगी नई आस – प्रवीण कक्कड़

प्रदेश में एक्टिव cases की संख्या में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है। 3 दिसंबर को जहां 142 पॉजिटिव मरीज सामने आए थे। वहीं 5 दिसंबर कोई आंकड़ा घटकर 137 पहुंच गया था। हालांकि 7 दिसंबर को एक बार फिर से 140 से एक्टिव के रिकॉर्ड किए गए थे जबकि 8 दिसंबर को यह आंकड़ा 150 पहुंच गया था। 10 दिसंबर को प्रदेश में 156 एक्टिव केस की पुष्टि हुई थी।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मध्यप्रदेश शासन द्वारा स्कूलों को 100% क्षमता के साथ खोलने के निर्णय को वापस ले लिया गया है। मध्य प्रदेश में स्कूल और कॉलेजों को पचास फीसद क्षमता के साथ खोले जा रहे है। इसके अलावा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान लगातार मध्य प्रदेश में Corona की स्थिति पर अपनी नजर बनाए हुए हैं। तीसरी लहर की संभावना से निपटने की तैयारी की जा रही है। मेडिकल कॉलेज की स्थिति का आकलन लगाया जा रहा है। इसके अलावा सीटी स्कैन मशीन सहित जिलों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं।