MP में पर्यटन को बढ़ावा देने राज्य सरकार की बड़ी तैयारी, सीएम शिवराज ने अधिकारियों को दिए निर्देश

जनजातीय कार्य विभाग के माध्यम से भरिया जनजाति का छिंदवाड़ा, बैगा जनजाति का डिंडोरी और सहरिया जनजाति का श्योपुर में सुनिश्चित किया गया है।

शिवराज सरकार

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश की धरोहर (MP Heritage) को संजोने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj singh chouhan) ने बड़ी घोषणा की है। दरअसल सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने कहा कि ट्राइबल म्यूजियम (Tribal Museum) को विश्वस्तरीय बनाए जाने का प्रयास किया जाएगा। इसके अलावा म्यूजियम में पर्यटक आकर रुके और इसे पूर्ण रूप से देखें। इसके लिए व्यवस्थित व्यवस्था की तैयारी की जा रही है। इतना ही नहीं उन्होंने मानव संग्रहालय  को पुनर्जीवित करने और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए भी पर्यटकों के ठहरने के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि नए संग्रहालय को उपयोगी बनाया जाए। जिसे नई पीढ़ी, देखे जाने और समझे। इसके साथ ही नई पीढ़ी इतिहास को और ज्यादा रोचक तरीके से अपने अंदर समाहित करें। सीएम शिवराज ने कहा कि पर्यटक आकर्षित होकर आए और अपने आप को रोमांचित महसूस कर सके। ऐसी तैयारी की जाए। पुराने संग्रहालय को भी रुचिकर और प्रेरक बनाया जाए ताकि लोग आकर्षित हो। वही नवाचार अपना खूबसूरती देने के साथ ही साथ इन्हें ज्ञानवर्धक भी बनाया जाना चाहिए।

अधिकारियों को निर्देश देते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि ओमकारेश्वर में आचार्य शंकराचार्य की प्रतिमा की स्थापना और लेजर शो का कार्य प्रथम चरण को पूरा कर लिया गया है। वेदांत पीठ की स्थापना देश और दुनिया में मध्यप्रदेश के लिए एक अद्भुत निशानी होगी। इस कार्य की हर सप्ताह समीक्षा की जाएगी।

Read More : मध्य प्रदेश में IAS अधिकारियों के तबादले, मिली नवीन पदस्थापना, यहां देखे लिस्ट

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सलकनपुर मंदिर में भी पर्यटकों को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके लिए पर्यटन को बढ़ावा देने कार्य किए जा रहे हैं। सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश में अब पूर्व पुरासंपदा है। इसकी महत्ता को लोगों तक पहुंचाया जाना चाहिए। टूरिस्ट सर्किट बनाया जाए। इंदौर में लालबाग पैलेस का मूल स्वरूप को बरकरार रखते हुए उसे कुशाभाऊ ठाकरे सभागार की तरह विकसित किया जाए। वही शिव की प्रतिमा के अभिप्राय पर केंद्रित पुस्तक और परमवीर चक्र विजेताओं पर आधारित ब्रोशर का भी विमोचन किया है।

बैठक में बताया गया कि आजादी का अमृत महोत्सव के लिए भारत सरकार की वेबसाइट पर समानांतर रूप से मध्यप्रदेश की प्रमुख गतिविधियां उपलब्ध करवा दी गई है विशेष पिछड़ी जनजाति पर आधारित संग्रहालय के निर्माण का कार्य भी तेजी से किया जा रहा है। जनजातीय कार्य विभाग के माध्यम से भरिया जनजाति का छिंदवाड़ा, बैगा जनजाति का डिंडोरी और सहरिया जनजाति का श्योपुर में सुनिश्चित किया गया है।

बैठक में रामराजा सरकार मंदिर परिसर में रामराज्य कला दीर्घा की स्थापना, वार्षिक कला पचांग में निर्धारित गतिविधियों का निष्पादन, जनजातीय रामलीलाओं का प्रदर्शन, मध्यप्रदेश के चित्रित शैलाश्रयों का दस्तावेजीकरण एवं संरक्षण, आशापुरी मंदिर समूह के मंदिरों की पुनर्संरचना आदि पर भी चर्चा की गई।