‘महा’ लाएगा एमपी में तेज बारिश का दौर, फसलों को हो सकता है नुकसान

भोपाल।  इस बार मध्यप्रदेश से बारिश जाने का नाम नहीं ले रही है और ठंड दस्तक देने के मूड़ में दिखाई नहीं दे रही है। पहले ‘क्यार’ की मार से दीपावली के त्यौहार की चमक फीकी हुई और अब ‘महा’ ने बारिश का रूख एक बार फिर मप्र के तरफ मोड़ दिया है। अरब सागर में उठा तूफान ‘महा” अब और तीव्र शक्तिशाली तूफान बन गया है। 

दरअसल अरब सागर में चक्रवाती तूफान ‘महा’ की हलचल के तेज होने से 6 नवंबर के बाद भोपाल सहित पश्चिमी मध्यप्रदेश में तेज बारिश होने के आसार हैं। इस चक्रवात के कारण बीते 2 दिनों से लगातार रात के तापमान में बढोतरी हो रही है और इसी के ही साथ ठंड भी लेट ही प्रदेश में दस्तक देगी। अभी यह चक्रवात गुजरात के नीचे हैं। जैसे ही यह आगे बढेगा तो मप्र आगामी 15 तक बारिश का सिलसिला शुरू रहेगा।

वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक के अनुसार अरब सागर में फिर से सिस्टम बन गया है। इसका असर चार से पांच दिन रहेगा। कुछ क्षेत्रों में बारिश होगी। कुछ में बादल छाए रहेंगे। बीच-बीच में धूप भी निकलेगी। रविवार को इस तूफान ने वेरी सीवियर साइक्लोनिक स्टॉर्म का रूप ले लिया है और आज यह उत्तर पश्चिम दिशा की और आगे बढ़ेगा। राजधानी की अगर बात करें तो रविवार को यहां बादल छाए रहे और शाम को शहर के कई हिस्सों में बूंदाबांदी हुई।

‘महा’ लाएगा तेज बारिश

अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान के कारण आगामी 48 घंटों में दक्षिणी गुजरात और सौराष्ट्र के तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल सकती हैं। जिसका असर 6 नवंबर के आस पास पश्चिमी  मप्र में भी देखने को मिलेगा। इस दौरान भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, चंबल के कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।जिसकी वजह से किसानों की फसल को काफी नुकसान होगा। तीव्र चक्रवाती तूफान ‘महा” वर्तमान में पश्चिम-उत्तर-पश्चिम दिशा में आगे बढ़ रहा है। सोमवार-मंगलवार को इसके पलटने के आसार हैं। इस दौरान कुछ कमजोर पड़ने के बाद यह तूफान पूर्व-उत्तर-पूर्व दिशा पर आगे बढ़ते हुए गुजरात में द्वारिका के तट से गुजरेगा। इसके प्रभाव से 7-8 नवंबर को मध्य प्रदेश में कई स्थानों पर गरज-चमक के साथ बारिश का दौर शुरू होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here