सुशासन की तरफ बढ़ता MP, पुलिस आयुक्त प्रणाली के तहत दो नवीन योजनाओं की शुरुआत

सिपाही से लेकर थाना प्रभारी तक की सेवाओं की ग्रेडिंग करेगी। इसके साथ ही पुलिस द्वारा उनसे कैसे व्यवहार किए जाते हैं। इसका भी आकलन इस लिस्ट में किया जाएगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में पुलिस कर्मियों (Policemen) की गोपनीय चरित्रावली (CR) जनता के फैसले पर निर्भर होगी। दरअसल पुलिस आयुक्त प्रणाली (Police-Commissioner System) के तहत नगरीय पुलिस ने आम लोगों को दो योजना का लाभ दिया। जिसमें पहली योजना के तहत प्रत्येक थाने में द्वारा Register रखा जाएगा। वहीं थाने में किसी भी काम से पहुंचने वाले लोगों की एक लिस्ट तैयार की जाएगी। इतना ही नहीं आम जनता से पुलिस द्वारा उनसे किए व्यवहार पर रिपोर्ट मांगी जाएगी।

सुशासन दिवस के मौके पर पुलिस आयुक्त प्रणाली के तहत नगर पुलिस ने बड़ा फैसला लिया है। जिसके तहत अगर थाने में एक रजिस्टर तैयार किया जाएगा। कैसी है आपकी पुलिस से प्रकोष्ठ में भेजने के लिए तैयार इस रजिस्टर में अब जनता पुलिस सेवा की मॉनिटरिंग (monitoring) के आधार पर सिपाही से लेकर थाना प्रभारी तक की सेवाओं की ग्रेडिंग करेगी। इसके साथ ही पुलिस द्वारा उनसे कैसे व्यवहार किए जाते हैं। इसका भी आकलन इस लिस्ट में किया जाएगा।

Read More : कोरोना के नए वेरिएंट ने बढ़ाई चिंता, राज्य में लगेगा लॉकडाउन? सामने आया स्वास्थ्य मंत्री का बड़ा बयान

इसके लिए आम जनता से सुझाव मांगे गए हैं। साथ ही पुलिस व्यवस्था में और बेहतरी लाने के लिए आम जनता से सुझाव मांगी जाएंगे। आम जनता की तरफ से की गई मॉनिटरिंग के आधार पर पुलिस अधिकारियों की CR रिपोर्ट तैयार करने में काफी मदद मिलेगी। पुलिस अधिकारियों का मानना है कि सुशासन को बढ़ावा देने के लिए जनता जनार्दन द्वारा दिए गए उत्तर ना सिर्फ पुलिस की गुणवत्ता में सुधार के लिए प्रेरणादायक साबित होंगे। वहीं इसके आधार पर थाना प्रभारी सहित कर्मचारियों की सेवा और व्यवहार का मूल्यांकन करने में भी आसानी होगी।

वहीं दूसरी योजना के तहत अब नगर निगम सीमा में सुगम यातायात के लिए एक ऐप (app) तैयार किया गया है। इसके तहत शहर में कहीं भी ट्रैफिक जाम की स्थिति बनने पर आमजन इसकी सूचना पुलिस आयुक्त प्रणाली की यातायात शाखा को उपलब्ध करवाएंगे। वहीं शिकायत मिलते ही ट्रैफिक पुलिस कुछ ही मिनटों में मौके पर पहुंचेगी।

इस योजना की शुरुआत का मुख्य मकसद यातायात नियंत्रण और आमजन को परेशानी से मुक्त करना है। ट्रैफिक जाम की सूचना सिटीजन कॉप एप (Citizen Cop app) देनी होगी। वही गूगल प्ले स्टोर पर ऐप मौजूद है। आम जनता वहां से इसे डाउनलोड कर सकेंगे। एंड्रॉयड और IoS दोनों में उपलब्ध एप जनता द्वारा दी गई सूचना पर संबंधित सूचना मोबाइल लोकेशन पर अलर्ट जनरेट करेंगे। जिसके बाद पुलिस कर्मचारियों को उस स्थान पर पहुंचने का निर्देश दिया जाएगा।