MP News: रबी फसलों के पंजीयन में किसानों को आ रही दिक्कत, कलेक्टरों को मिले निर्देश

वहीं जिन किसानों का आधार नंबर डेटाबेस से मैच नहीं करेगा उसे सत्यापन के लिए जिलों में भेजा भी जाएगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में रबी फसल (rabi) को एमएसपी (MSP) पर खरीदने की तैयारी पूरी कर ली गई है। वह न्यूनतम समर्थन मूल्य पर फसलों की खरीदी के लिए किसानों को 20 फरवरी तक पंजीयन (registration) कराना आवश्यक होगा। इसके लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति के प्रमुख सचिव ने कलेक्टरों (collectors) को निर्देश जारी किए हैं।

दरअसल रबी फसलों की खरीदी के लिए किसानों को रजिस्ट्रेशन के समय आधार नंबर उपलब्ध कराने होंगे। वहीं इन नंबरों को राजस्व विभाग के डाटा बेस (database) से मिलान किया जाएगा। जिसके सत्यापन के बाद ही किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर बिक्री की अनुमति दी जाएगी। इतना ही नहीं जिन किसानों के खसरों में उनका आधार नंबर दर्ज नहीं होगा। वैसे किसानों को पंजीयन नहीं करने दिया जाएगा।

बता दे कि इससे पहले किसानों को रजिस्ट्रेशन करने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसका कारण है किसानों के खसरा में दर्ज नंबर और आधार नंबर का अलग अलग होना। इस मामले में फैज अहमद किदवई (Faiz Ahmed Kidwai) ने निर्देश जारी करते हुए कहा है के पंजीयन के लिए आधार नंबर आवश्यक होगा। वहीं जिन किसानों का आधार नंबर डेटाबेस से मैच नहीं करेगा उसे सत्यापन के लिए जिलों में भेजा भी जाएगा।

Read More: योजना के संशोधन की तैयारी में शिवराज सरकार, अविवाहित बेटी को दी जाएगी परिवारिक पेंशन!

इसके साथ ही प्रमुख सचिव  फैज अहमद किदवई ने कहा कि जिन खसरों में पहले से आधार नंबर दर्ज नहीं है। उनका भी पंजीयन होगा और इसका प्रभाव बिक्री पर नहीं पड़ेगा। इसके साथ ही उन्होंने साफ किया है कि किसानों को रजिस्ट्रेशन के पहले आधार सत्यापन या आधार लिंक कराने के लिए किसी तरह से बाध्य नहीं किया जा रहा है।

गौरतलब हो कि प्रदेश में 15 मार्च से चना, मसूर और सरसों की खरीदी शुरू की जाएगी। वहीं इंदौर उज्जैन संभाग में गेहूं की खरीदी 22 मार्च से और अन्य संभागों में 1 अप्रैल 2021 से होगी। इसके लिए सरकार द्वारा खरीदी 4529 केंद्र बनाए गए हैं।