MP News: शिवराज सरकार ने 2521 करोड़ की योजना को दी मंजूरी, ग्रामीण क्षेत्रों को मिलेगा लाभ

विभाग द्वारा 2840 जलप्रदाय योजनाओं की इस मंजूरी से आगामी माहों में विभाग की सुनियोजित और समयबद्ध कार्रबाई से शेष लक्ष्य को पूरा किया जायेगा।

सीएम शिवराज सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश (MP) में ग्रामीण क्षेत्र की जल व्यवस्था को लेकर शिवराज सरकार (shivraj government) की कारगर पहल निरंतर जारी है। इसी क्रम में मध्यप्रदेश शासन (MP Government) के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग (Public Health Engineering Department) ने 2521 करोड़ 23 लाख 44 हजार रूपये लागत की जलप्रदाय योजनाओं की जल जीवन मिशन (Jal Jeevan Mission) में मंजूरी दी है। इसमें ग्रामीण क्षेत्र की अब तक की सर्वाधिक 2840 जलसंरचाएँ शामिल हैं।

अपर मुख्य सचिव, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग मलय श्रीवास्तव ने बताया कि प्रदेश के 45 जिलों की ग्रामीण जलप्रदाय योजनाओं से जुड़े 2840 प्राप्त प्रस्तावों का नियमानुसार परीक्षण कर सक्षम अनुमोदन उपरांत स्वीकृति जारी की गई है। उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा पहलीबार इतनी बड़ी राशि की जलप्रदाय योजनाओं की एकजाई मंजूरी दी गई है। विभाग का मैदानी अमला यथाशीघ्र जलप्रदाय योजनाओं को पूरा कर ग्रामीण आबादी को नल कनेक्शन के माध्यम से पेयजल उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करेगा।

Read More: दो दिन के दौरे पर MP में रहेंगे केंद्रीय मंत्री, मिल सकती है बड़ी सौगात

जल जीवन मिशन जल गुणवत्ता प्रभावित ग्रामों, सांसद आदर्श ग्रामों तथा अनुसूचित जाति एवं जनजाति बहुल्य ग्रामों को प्राथमिकता में रखा जाता है। लोक स्वास्‍थ्य यांत्रिकी विभाग ने चालू वित्तीय वर्ष (31 मार्च 22) तक ग्रामीण आबादी को कुल 22 लाख 805 नल कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा था। विभाग द्वारा 2840 जलप्रदाय योजनाओं की इस मंजूरी से आगामी माहों में विभाग की सुनियोजित और समयबद्ध कार्रबाई से शेष लक्ष्य को पूरा किया जायेगा।

प्रदेश की समूची ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए राष्‍ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा निरंतर जल -संरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किये जा रहे हैं। प्रदेश में अब तक करीब 3260 ग्रामों के शत-प्रतिशत घरों में नल कनेक्शन के माध्यम से पेयजल उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जा चुकी है।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा दी गई स्वीकृति में भोपाल जिले की 31, रायसेन 53, सीहोर 17, विदिशा 37, राजगढ़ 37, होशंगाबाद 97, बैतूल 194, हरदा 44, धार 34, झाबुआ 14, खरगोन 148, बड़वानी 07, खण्डवा 57, उज्जैन 29, नीमच 03, शाजापुर 29, रतलाम 80, आगर मालवा 11, देवास 107, मंदसौर 64, ग्वालियर 28, अशोकनगर 19, शिवपुरी 39, दतिया 02, गुना 23, मुरैना 266, श्योपुर 27, भिण्ड 46, सागर 82, पन्ना 11, छतरपुर 57, टीकमगढ़ 06, जबलपुर 205, कटनी 57, मण्डला 90, बालाघाट 28, नरसिंहपुर 26, डिण्डौरी 51, छिन्दवाड़ा 207, सिवनी 183, रीवा 145, सतना 23, सीधी 55, शहडोल 40, तथा अनूपपुर जिले की 31 जल संरचनाएँ शामिल हैं। मिशन में नवीन जलप्रदाय योजनाओं के साथ ही विभिन्न ग्रामों में पूर्व से र्निमित पेयजल अधोसंरचनाओं को नए सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग के अन्तर्गत भी कार्य किये जायेंगे।