MP News: पटवारी-पंचायत सचिव समेत 3 निलंबित, 46 पर जुर्माना, 33 को शोकॉज नोटिस

कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने वीरेंद्र कुमार त्रिपाठी सहायक वर्ग - 2 कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को मप्र सिविल सेवा नियम के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है।

mp news

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। नए साल से पहले 31 दिसंबर 2021 को मध्य प्रदेश (MP News) में अलग अलग जिले के कलेक्टरों द्वारा सरकारी कामों में लापरवाही बरतने वालों शासकीय कर्मचारियों पर कार्रवाई की गई है।एक तरफ बड़वानी में पटवारी, उमरिया में सहायक वर्ग – 2 और सतना में पंचायत सचिव को निलंबित कर दिया गया है।वही दूसरी तरफ गुना में 46 लोगों पर जुर्माना और रायसेन में 33 अधिकारियों को शोकॉज नोटिस जारी किया गया है।

यह भी पढ़े.. MP में बड़े SEX RACKET का पर्दाफाश, 5 महिला-पुरुष गिरफ्तार, आपत्तिजनक सामान भी जब्त

बड़वानी कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा ने तलवाड़ा बुजुर्ग के पटवारी प्रभाकर कुलकर्णी को तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए इनका मुख्यालय तहसील कार्यालय ठीकरी नियत किया है। अनुविभागीय अधिकारी घनश्याम धनगर से प्राप्त जानकारी अनुसार तलवाड़ा बुजुर्ग के हल्का नंबर 09 के पटवारी प्रभाकर कुलकर्णी के विरूद्ध विशेष पुलिस लोकायुक्त द्वारा भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया जाकर विशेष न्यायालय में अभियोजन पत्र प्रस्तुत किये जाने से उन्हे कलेक्टर श्री वर्मा द्वारा निलंबित कर दिया गया है।

उमरिया कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने वीरेंद्र कुमार त्रिपाठी सहायक वर्ग – 2 CMHO कार्यालय को कार्य के प्रति लापरवाही, उदासीनता बरतनें पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है एवं निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय जिला मलेरिया अधिकारी कार्यालय नियत किया गया है। कलेक्टर संजीव श्रीवास्तव ने वीरेंद्र कुमार त्रिपाठी सहायक वर्ग – 2 कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को मप्र सिविल सेवा नियम के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि में उनका मुख्यालय जिला मलेरिया अधिकारी जिला उमरिया नियत किया गया है। निलंबन अवधि में उन्हें भत्ते की पात्रता होगी।

पंचायत सचिव निलंबित

सतना के उचेहरा जनपद के परसमनियां पहाड़ी अंचल की ग्राम पंचायतों में विकास कार्यों का जायजा लेने पहुंचे कलेक्टर अनुराग वर्मा ने स्वच्छता परिसर का कार्य 2-3 माह से बंद रखने पर पहाड़ी ग्राम पंचायत के सचिव को निलंबित कर दिया है। कलेक्टर अनुराग वर्मा ने ग्राम पहाड़ी के भ्रमण के दौरान अनुसूचित जनजाति कार्य विभाग से बन रहे सामुदायिक भवन और आंगनवाड़ी केन्द्र तथा स्वच्छता परिसर के निर्माणाधीन कार्य का निरीक्षण किया। उन्होने इस दौरान स्वच्छता परिसर का काम विगत 2-3 माह से बंद पाये जाने और स्वच्छता संबंधी कार्यों में लापरवाह पहाड़ी ग्राम पंचायत के सचिव रामसखा नामदेव को निलंबित करने के निर्देश दिये।

46 लोगों पर जुर्माना 

गुना कलेक्‍टर फ्रेंक नोबल ए. द्वारा संक्रमण से बचाव के लिए भारतीय दण्‍ड संहिता की धारा अंतर्गत व्‍यापक प्रतिबंधात्‍मक आदेश जारी किये गये है। जारी आदेश का उल्‍लंघन करने वालों के विरूद्ध दण्‍डात्‍मक कार्यवाही की जा रही है। इसी क्रम में गुना नगरीय क्षेत्र में बिना मास्‍क पाये गये लोगों के विरूद्ध जुर्माना लगाये जाने की कार्यवाही की गयी। CMO  तेज सिंह यादव ने बताया कि अनुविभागीय अधिकारी वीरेन्‍द्र सिंह के नेतृत्‍व में गुना नगरीय क्षेत्र में मास्‍क नही लगाने वाले 46 लोगों के विरूद्ध चालानी कार्यवाही की गयी। गुना के सदर बाजार, जयस्‍तंभ चौराहा, हनुमान चौराहा, हाट रोड में मास्‍क नही पहनने वाले नागरिकों एवं दुकानदारों के विरूद्ध जुर्माना लगाकर कोरोना प्रोटोकॉल पालन करने की समझाइश दी गयी।

 33 अधिकारियों को जारी किए एससीएन

रायसेन कलेक्टर अरविन्द दुबे द्वारा सीएम हेल्पलाईन में प्राप्त शिकायतें अटेण्ड किए बिना उच्च स्तर पर प्रेषित होने एवं शिकायतों के निराकरण में उदासीनता बरतने वाले 33 अधिकारियों को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया है। उन्होंने संबंधितों को उनके स्तर से शिकायतें अनिराकृत उच्च स्तर पर प्रेषित होने का कारण दर्शाते हुए अपना उत्तर एल-2 अधिकारी के माध्यम से तीन दिवसों के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। निर्धारित समयावधि में उत्तर प्राप्त ना होने अथवा संतोषजनक नहीं होने पर संबंधितों के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही की जाएगी।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को नए साल का तोहफा, DA-DR में 3% की बढोतरी, एरियर का भी मिलेगा लाभ

गत टीएल बैठक में कलेक्टर  दुबे द्वारा सीएम हेल्पलाईन (CM Helpline) में प्राप्त शिकायतों की माह अक्टूबर, नवम्बर तथा दिसम्बर 2021 में बिना निराकरण दर्ज किए उच्च स्तर पर प्रेषित हुई शिकायतों की अधिकारीवार समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान पाया गया कि संबंधितों द्वारा विगत तीन माह में बिना निराकरण दर्ज किए शिकायतें उच्च स्तर पर प्रेषित हुई है, जो कि शासन की महत्वपूर्ण योजना के क्रियान्वयन में लापरवाही एवं कार्य के प्रति उदासीनता को दर्शाता है।