MP पंचायत और निकाय चुनाव : आयोग ने कलेक्टरों को दिए निर्देश, जल्द करें चयन

सभी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पंचायतों तथा नगरीय निकायों के निर्वाचन के लिये तत्काल पृथक-पृथक मतगणना स्थल एवं अस्थाई स्ट्रांग रूम का चयन करें

mp nagriy nikaay chunav

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में आगामी दिनों में होने वाले पंचायत चुनाव और नगरीय निकाय चुनाव को लेकर बड़ी अपडेट सामने आई है। राज्य निर्वाचन आयोग ने कलेक्टरों को निर्देश दिए है कि जल्द मतगणना स्थल एवं स्ट्रांग रूम का चयन करें और चयनित स्थल में आवश्यक व्यवस्थाएँ कर आयोग को अवगत करायें।

यह भी पढ़े..सरकारी कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, सीएम ने पीएम को लिखा पत्र, पेंशन में मिलेगा लाभ!

राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह ने शुक्रवार को राज्य निर्वाचन आयोग में हुई बैठक में पंचायत निर्वाचन के लिए छपने वाले मत-पत्रों के लिए कागज की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। नगरीय निकाय निर्वाचन के लिए समय पर मतपत्र मुद्रण की सुनियोजित कार्य-योजना बना लें। त्रि-स्तरीय पंचायत निर्वाचन में मत-पत्र मुद्रण के लिए लगभग 575 टन कागज की आवश्यकता होगी।मानदेय और अन्य सामग्रियों के लिए जिलों को जरूरत अनुसार बजट उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

प्रमुख सचिव राजस्व मनीष रस्तोगी ने कहा कि पंच, सरपंच, जनपद पंचायत और जिला पंचायत सदस्य के लिए मत-पत्रों की छपाई के लिए समय पर निर्धारित कलर के पेपर उपलब्ध करा दिये जायेंगे। 8 प्रकार के लिफाफों का मुद्रण भी समय-सीमा में कर लिया जायेगा।

राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव राकेश सिंह ने सभी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पंचायतों तथा नगरीय निकायों के निर्वाचन के लिये तत्काल पृथक-पृथक मतगणना स्थल एवं अस्थाई स्ट्रांग रूम का चयन करें और चयनित स्थल में आवश्यक व्यवस्थाएँ कर आयोग को अवगत करायें।बता दे कि पंचायतों के निर्वाचन मतपेटी में मत डालकर तथा नगरीय निकायों के निर्वाचन ईव्हीएम के द्वारा कराये जायेंगे।

यह भी पढ़े.. MP College 2022: UG के लिए फर्स्ट CLC राउंड आज से, नोटिस बोर्ड पर लगेगी मेरिट लिस्ट, 11 जून तक नए रजिस्ट्रेशन

इसके अलावा राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप ने प्रमुख सचिव वाणिज्य कर को निर्देशित किया है कि जिलों में त्रिस्तरीय पंचायत एवं नगरीय निकाय निर्वाचन के दौरान अवैध शराब की बिक्री होने पर की जाने वाली कार्रवाई की मॉनिटरिंग करने और राज्य निर्वाचन आयोग से समन्वय के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करें।वही  सिंह ने कहा कि त्रि-स्तरीय पंचायत और नगरीय निकाय निर्वाचन के संबंध में सभी तैयारियाँ समय-सीमा में करें। किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होनी चाहिए। मतदान के दिन सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के बारे में सभी संभागों के कमिश्नर और आईजी से भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से चर्चा करने की बात कही।

नगरीय निकाय चुनाव पर एक नजर

  • 6 जुलाई और 13 जुलाई को दो चरण में चुनाव होंगे। 11 से 18 जून के बीच नामांकन दाखिल होंगे और इसी दिन चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी की जाएगी।
  • नॉमिनेशन पत्रों की जांच 20 जून और नाम वापस लेने की अंतिम तारीख 22 जून है। वहीं, निर्वाचन प्रतीकों का आवंटन 22 जून को किया जाएगा।
  • पहले चरण की वोटिंग छह जुलाई को होगी। दूसरे चरण के लिए वोटिंग 13 जुलाई को होगी। पहले चरण का रिजल्ट 17 जुलाई और दूसरे चरण का रिजल्ट 18 जुलाई को आएगा।

पंचायत चुनाव पर एक नजर

  • पंचायत चुनाव के लिए नामांकन की प्रक्रिया 30 मई से शुरू हो चुकी है, जो 6 जून दोपहर 3 बजे तक चलेगी।नामांकन पत्र ऑफलाइन मोड में ही जमा किए जा रहे हैं।
  • प्रदेश के सभी 52 जिला मुख्यालयों के साथ ही 313 विकासखंड मुख्यालयों और 2780 ग्राम पंचायत समूहों पर नामांकन प्रक्रिया जारी है।
  • त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में जिला पंचायत सदस्यों के 875 पदों, जनपद पंचायत सदस्यों के 6771 पदों और सरपंच के 22921 पदों और पंचों के 363726 पदों के लिए चुनाव होंगे।
  • पहले चरण का चुनाव 25 जून को, दूसरे चरण का चुनाव 1 जुलाई को और तीसरे और आखिरी चरण का चुनाव 8 जुलाई को होगा।
  • वहीं 14 और 15 जुलाई को चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे।