शिवराज सरकार ने पलटा कमलनाथ सरकार का फैसला, अधिकारी-कर्मचारियों को मिलेगा लाभ

प्रदेश में 14 जनवरी 2022 से 28 जनवरी 2022 तक आनंद उत्सव मनाए जाएंगे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में एक बार फिर से शिवराज सरकार (Shivraj government) ने कमलनाथ सरकार (kamalnath government) के फैसले को पलट दिया है। दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक (cabinet Meeting) में आनंद विभाग के पुनर्गठन का निर्णय लिया गया है। वही अध्यात्म विभाग का नाम बदलकर फिर से धार्मिक न्यास और धर्मस्व विभाग करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई है। इसके लिए जल्द सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा आदेश जारी किया जाएगा।

दरअसल आज की कैबिनेट बैठक में शिवराज सरकार द्वारा कमलनाथ सरकार के निर्णय को बदल दिया गया है। कांग्रेस के तत्कालीन सरकार द्वारा आनंद विभाग की जगह अध्यात्म विभाग बनाया गया था। वही विभाग में धार्मिक न्यास धर्मस्व विभाग को समाहित किया गया था। इसके बाद आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अध्यात्म विभाग का नाम बदलने कर फिर से धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग करने के प्रस्ताव को स्वीकृति दी है। इसके अलावा आनंद विभाग के पुनर्गठन का निर्णय लिया गया है। प्रदेश में 14 जनवरी 2022 से 28 जनवरी 2022 तक आनंद उत्सव मनाए जाएंगे।

Read More : MP School : स्कूल शिक्षा विभाग की बड़ी तैयारी, 1 से 8वीं तक के बच्चे को होगा बड़ा लाभ

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में 2016 में आनंद विभाग का गठन किया गया था। अधिकारी कर्मचारी सहित कई अन्य व्यक्तियों को जोड़कर ऐसी गतिविधियां की जा सकती थी। जिससे अधिकारी कर्मचारियों का तनाव कम हो सके। वहीं विभाग का गठन ब्लॉक स्तर तक संगठन बनाकर किया गया था।

हालांकि कमलनाथ सरकार के सत्ता में आते ही उन्होंने अध्यात्म विभाग को मंजूरी देकर आनंद विभाग को बंद करने का निर्णय लिया था। इसके साथ धार्मिक न्यास और धर्मस्व विभाग को भी इसमें मिला दिया गया था। अब एक बार फिर से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आनंद विभाग से जुड़ी गतिविधियों को शुरू करवाया जाएगा। इसके लिए कैबिनेट में बड़ा फैसला लिया गया है। इसके साथ ही अब इस विभाग द्वारा 14 जनवरी 2022 से आनंद उत्सव की तैयारी की जाएगी।