MP: राज्य सरकार की बड़ी तैयारी, 35 हजार से अधिक गांवों को जल्द मिलेगा लाभ, जानें अपडेट

ग्रामीण क्षेत्र के 69 हजार 984 स्कूल और 40 हजार 680 आँगनवाड़ी केन्द्रों में जल पहुँचाया जा चुका है, जो लक्षित संख्या का लगभग 60 प्रतिशत है।

shivraj government
demo pic

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।आगामी चुनावों से पहले प्रदेश की शिवराज सरकार (MP Shivraj Government) का शासकीय योजनाओं पर विशेष फोकस बना हुआ है।आए दिन सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा विकास कार्यों की समीक्षा की जा रही है और कामों में तेजी लाने के निर्देश दिए जा रहे है। इसी कड़ी में मध्य प्रदेश में केन्द्र की सबसे बड़ी योजनाओं में से एक जल जीवन मिशन का काम भी तेजी से चल रहा है। अब तक स्कूल और आंगनवाडी समेत 48 लाख 94 हजार 774 ग्रामीण परिवारों तक नल से जल मुहैया करवाया जा चुका है। वही 35 हजार से अधिक ग्रामों की जल-प्रदाय योजनाएँ प्रगति पर है।

MP में सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, यहां 385 पदों पर निकली भर्ती, जानें आयु-पात्रता

जल जीवन मिशन में प्रदेश  (Madhya Pradesh)के सभी ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन से जल उपलब्ध करवाने के लिए जल-प्रदाय योजनाओं के कार्य जारी हैं। अब तक 48 लाख 94 हजार 774 ग्रामीण परिवारों तक नल से जल मुहैया करवाया जा चुका है। मिशन में ग्रामीण क्षेत्र में संचालित स्कूल और आँगनवाड़ी में भी नल कनेक्शन दिए जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र के 69 हजार 984 स्कूल और 40 हजार 680 आँगनवाड़ी केन्द्रों में जल पहुँचाया जा चुका है, जो लक्षित संख्या का लगभग 60 प्रतिशत है।

मिशन में जल प्रदाय योजनाओं को पूरा कर 4 हजार 325 ग्रामों के शत-प्रतिशत घरों में नल कनेक्शन से जल की सुविधा दी गई है। राज्य सरकार के निर्देश पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और जल निगम प्रदेश में विभिन्न जल संरचनाओं पर निरंतर कार्य कर रहे हैं, जिससे शत-प्रतिशत ग्रामीण परिवारों तक जल पहुँचाना संभव हो सके। प्रदेश में ग्रामीण आबादी के आकलन के अनुसार एक करोड़ 22 लाख ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन दिए जाने का लक्ष्य है, इनमें 40 प्रतिशत से ऊपर लक्ष्य प्राप्त किया जा चुका है।

यह भी पढ़े.. अरुणाचल की खूबसूरती देखने का मन है तो IRCTC के इस टूर पैकेज को मिस नहीं करें

मध्य प्रदेश के 35 हजार 684 ग्राम के हर घर में नल से जल प्रदाय करने के लिए निरंतर कार्य जारी है। इनमें 3537 ग्राम की जल-प्रदाय योजनाओं की 90 प्रतिशत, 2141 ग्रामों की 80, 1777 ग्राम की 70 और 28 हजार 229 ग्राम की प्रगति 60 प्रतिशत से अधिक हो चुकी है।