MP Weather : 2 सिस्टम एक्टिव, 4 संभागों में बारिश की चेतावनी, छाएंगे बादल, कोहरा, 30 से बदलेगा मौसम, जानें जिलों की स्थिति- IMD पूर्वानुमान

26 से 28 जनवरी के बीच ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखंड, सागर और रीवा संभाग के साथ भोपाल, ग्वालियर और इंदौर में गरज चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार हैं। नए वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के असर से जनवरी के अंत तक ग्वालियर चंबल संभाग में बादल छाने के साथ बारिश के आसार है।

MP Weather Today 2023: जम्मू कश्मीर में सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ से एक बार फिर मध्य प्रदेश के मौसम में बदलाव नजर आने लगा है। एक तरफ ठंड और शीतलहर का असर कम हो गया है तो वही दूसरी तरफ कोहरे और बारिश का दौर चल पड़ा है। पिछले 24 घंटे में गुना, सागर समेत कई जिलों में बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भी 20 से ज्यादा जिलों में बारिश को लेकर चेतावनी जारी की है।वही बादल छाने के साथ घना कोहरे के भी आसार है। पश्चिमी विक्षोभ के गुजरने के बाद जनवरी अंत तक ठंड का असर फिर से दिखाई देगा और पारा में गिरावट देखने को मिलेगी।

एमपी मौसम विभाग (MP Weather Alert Today) के अनुसार,26 से 28 जनवरी के बीच ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखंड, सागर और रीवा संभाग के साथ भोपाल, ग्वालियर और इंदौर में गरज चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार हैं। नए वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के असर से जनवरी के अंत तक ग्वालियर चंबल संभाग में बादल छाने के साथ बारिश के आसार है। इंदौर में  गणतंत्र दिवस पर दिनभर बादल रहेंगे व बूंदाबांदी के भी आसार हैं।ग्वालियर में 26 जनवरी के बाद आसमान साफ होने का अनुमान है।आज बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य के आसपास ही बना रहेगा।

बादल छाने के साथ बूंदाबांदी के आसार

एमपी मौसम विभाग (MP Weather Forecast Today) के अनुसार, वर्तमान में पूर्वी अफगानिस्तान पर एक पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है, जिसके असर से दक्षिणी पश्चिमी राजस्थान में एक प्रेरित ऊपरी हवा का चक्रवात भी बना हुआ है। इसके कारण अगले 2 से 3 दिन रात के तापमान में 2 डिग्री की वृद्धि होगी। ग्वालियर में 26 जनवरी तक बादल छाने के साथ-साथ गरज-चमक के साथ बूंदाबांदी के आसार हैं। पश्चिमी विक्षोभ गुजर जाने के बाद 27 जनवरी से आसमान साफ होगा और पारे में गिरावट आएगी। महीने के अंत में ठंड दो दिन के लिए ही दस्तक देगी।

27 को सक्रिय होगा नया पश्चिमी विक्षोभ

एमपी मौसम विभाग (MP Weather of week) के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ अफगानिस्तान और उससे लगे पाकिस्तान पर हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात के रूप में सक्रिय है। ओडिशा के आसपास भी एक प्रति चक्रवात है। इन 2 सिस्टमों के चलते हवा का रुख बदल कर पश्चिमी हो गया है। पश्चिमी विक्षोभ का असर 26 जनवरी तक रहेगा, इसके कमजोर पड़ने के बाद 27 से 29 जनवरी के बीच ठंड बढ़ने लगेगी और न्यूनतम तापमान 6 से 7 डिसे के बीच आ सकता है। 27 से 29 जनवरी के बीच आसमान साफ हो जाएगा। इसके बाद 27 जनवरी से नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा जिसका असर 30 जनवरी से दिखेगा और फिर बादल छाएंगे। 26 जनवरी तक 10 डिग्री सेल्सियस से तापमान ऊपर रहेगा।