MP Weather : चक्रवात का दिखेगा प्रभाव! 2 दर्जन जिलों में बारिश के आसार, तेज हवा-आंधी की आशंका, सोमवार के बाद फिर बदलेगा मौसम

बंगाल की खाड़ी में एक चक्रवात मोचा बनने की संभावना है, जो रविवार को कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित होगा। उसके बाद चक्रवात के चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। इस मौसम प्रणाली के कारण हवाओं का रुख बदल जाएगा। जिससे मौसम बिगड़ा रहेगा और बारिश होने के आसार है।

MP Weather Alert Today : मध्य प्रदेश के मौसम में बार बार बदलाव का दौर जारी है। आज शनिवार को बंगाल की खाड़ी में चक्रवात बनने जा रहा है, जो रविवार को कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित होगा और चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। एमपी मौसम विभाग की मानें तो शनिवार को कुछ इलाकों में हल्की बारिश हो सकती है। 7 और 8 मई को बादल छाए रहेंगे। 8 मई तक प्रदेश में बादल छाने के साथ हल्की बारिश जारी रहने का अनुमान है । वही 40 से 50Km प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं।इधर, 15 मई तक लू चलने की संभावना नहीं है।

एमपी मौसम विभाग की मानें तो वर्तमान में कोई मजबूत सिस्टम एक्टिव नहीं है, इसके चलते 8 मई के बाद भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर, उज्जैन समेत अन्य जिलों में तापमान में बढ़ोतरी होने की संभावना है। इसके अलावा भोपाल, जबलपुर, शहडोल, इंदौर, उज्जैन और नर्मदापुरम के जिलों के साथ गुना-ग्वालियर में हल्की बूंदाबांदी हो सकती है। यहां पर 30 से 40km प्रतिघंटे की रफ्तार से आंधी भी चल सकती है। 15-20 मई तक प्रदेश में हीट वेव और तेज गर्मी पड़ने की संभावना कम ही है, लेकिन मई के अंत में गर्मी का असर देखने को मिलेगा।

चक्रवात का दिखेगा असर

एमपी मौसम विभाग की मानें तो बंगाल की खाड़ी में एक चक्रवात मोचा बनने की संभावना है, जो रविवार को कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित होगा। उसके बाद चक्रवात के चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। इस मौसम प्रणाली के कारण हवाओं का रुख बदल जाएगा। जिससे मौसम बिगड़ा रहेगा और बारिश होने के आसार है। हालांकि सात मई के बाद मौसम साफ होने लगेगा और तापमान बढ़ने लगेगा। अगले 24 घंटे में जबलपुर सहित संभाग के जिलों में तेज हवा के साथ कहींं-कहीं हल्की वर्षा हो सकती है।  7 मई तक बादल-वर्षा के आसार रहेंगे, इसके बाद आसमान साफ होने लगेगा।

क्या कहता है मौसम विभाग का पूर्वानुमान

वर्तमान में ईरान के पास में चक्रवातीय घेरे के रूप में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय है, दक्षिण पूर्व राजस्थान में भी चक्रवातीय घेरा बना हुआ है।वही तमिलनाडु व कर्नाटक में चक्रवातीय घेरा विकसित हैं, एक ट्रफलाइन भी गुजर रही है। इन सभी सिस्टमों का असर ग्वालियर चंबल संभाग के मौसम पर नहीं दिखेगा और नमी कम हो जाएगी। पश्चिमी विक्षोभ ज्यादा मजबूत नहीं है, यह दो दिन में खत्म हो जाएगा। राजस्थान में बना चक्रवातीय घेरा खत्म होने पर तपना शुरू हो जाएगा।