सवाल पूछने में अव्वल सुधीर गुप्ता, सिंधिया सेकंड, यह रहे फिसड्डी

mps-topped-in-the-parliament-for-asking-question-in-mp

भोपाल। आम चुनाव से पहले 16  वी लोकसभा में किस सांसद ने कितने सवाल पूछे और कौन आगे रहा, इसके आंकड़े सामने आए है।इनमें मध्यप्रदेश के सांसद सदन में जनता से जुड़े सवालों को उठाने के मामले में आगे रहे हैं।इन सांसदों में भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों के नेताओं के नाम शामिल है। मध्यप्रदेश में भी बुंदेलखंड के तीन सांसदों ने टॉप 10की लिस्ट में अपनी जगह बनाई हैं। जहां मंदसौर के  भाजपा के सुधीर गुप्ता सवाल पूछने में टॉपर रहे वही गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दूसरा स्थान पाया है। सिंधिया और सुधीर गुप्ता में केवल 51 प्रश्नों का अंतर रहा है। वही सबसे कम सवाल पूछने वालों में खरगोन बड़वानी के सुभाष पटेल और खंडवा के नंदकुमारसिंह चौहान का नाम शामिल है।हैरानी की बात तो ये है कि खंडवा सांसद औऱ पूर्व प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने बीते पांच सालों में एक भी सवाल नही पूछा है। लोकसभा चुनाव से पहले ये आंकड़े बेहद अहम माने जा रहे है।इन आंकड़ों से भली भांति पता लगाया जा सकता है कि कौन सा सांसद अपने क्षेत्र में कितना एक्टिव रहा। अब 17 वीं लोकसभा के लिए चुनाव होना है और सांसद चुने जाने है। खैर किसकी सरकार होगी और कौन सांसद बनेगा ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा।


सांसदों का रिपोर्ट कार्ड-

सुधीर गुप्ता,भाजपा, मंदसौर -699

ज्योतिरादित्य सिंधिया गुना,कांग्रेस -648

वीरेंद्र कुमार टीकमगढ़,भाजपा- 351

रोडमल नागर राजगढ़,भाजपा – 333

प्रहलादसिंह पटेल दमोह,भाजपा- 332

गणेशसिंह सतना,भाजपा – 301

आलोक संजर भोपाल,भाजपा – 298

लक्ष्मीनारायण यादव सागर,भाजपा – 237

रिति पाठक सीधी,भाजपा – 216

अनूप मिश्रा मुरैना,भाजपा – 208

ज्योति धुर्वे बैतूल,भाजपा – 196

राकेशसिंह जबलपुर,भाजपा- 194

कमलनाथ छिंदवाड़ा -कांग्रेस- 192

उदयप्रतापसिंह होशंगाबाद,भाजपा – 163

चिंतामण मालवीय उज्जैन,भाजपा – 135

सुभाष पटेल खरगोन बड़वानी,भाजपा – 88

नंदकुमारसिंह चौहान खंडवा,भाजपा – 0

सदन में पहुंचने में भी नंदकुमार सिंह चौहान सबसे पीछे रहे।


एक नजर मंदसौर लोकसभा सीट पर

मंदसौर-नीमच लोकसभा क्षेत्र तीन ज़िलों के क्षेत्र मिलाकर बना है। इसमें मंदसौर, नीमच के साथ रतलाम की जावरा सीट शामिल है बीजेपी के दिग्गज नेता स्व. लक्ष्मीनारायण पांडेय यहां से सांसद रह चुके हैं।2009 के चुनाव में कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन इस हैविवेट नेता को हराकर संसद पहुंची थीं।संसदीय क्षेत्र में 2013 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी 8 में से 7 और कांग्रेस एक सीट पर जीती थी।2018 में भी 2013 ही रिपीट हुआ है। भाजपा सात पर अपना कब्जा बरकरार रखने में कामयाब हुई और कांग्रेस अपनी एक सीट बचाने में सफल रही। जहां तक 2014 के लोकसभा चुनाव में हार जीत का अंतर है उसमें 2014 में भाजपा के वर्तमान सांसद सुधीर गुप्ता 333000 मतों से जीते थे।यदि मतदाताओं की बात करें तो मंदसौर संसदीय क्षेत्र में कुल 1673563। मतदाता हैं। इनमें से 864076 पुरुष, 809465 महिला और 14 थर्ड जेंडर के मतदाता हैं। इसमें मंदसौर जिले की 4 विधानसभा सीटों के कुल मिलाकर 917784 मतदाता, नीमच जिले की 3 विधानसभा सीटों के कुल मिलाकर 545854 मतदाता और रतलाम जिले की जावरा विधानसभा सीट के 209925 मतदाता शामिल हैं।

एक नजर गुना लोकसभा सीट पर

गुना लोकसभा सीट मध्य प्रदेश की वीआईपी सीट है।  यहां सालों से सिंधिया परिवार का ही कब्ज़ा रहा है। गुना लोक सभा निर्वाचन क्षेत्र भारत के मध्य प्रदेश राज्य का एक ऐसा लोक सभा क्षेत्र है जहां अब तक हुए 16 लोकसभा चुनावों में विजयाराजे सिंधिया 7 बार, माधवराव सिंधिया 3 बार और ज्योतिरादित्य सिंधिया 4 बार चुने गए हैं। कुल 16 चुनावों में 14 चुनाव तो सिंधिया परिवार ने ही जीते हैं। इस सीट पर सिंधिया राजघराने के सदस्य का ही राज रहा है। ग्वालियर चंबल अंचल की दो ही सीट ऐसी हैं जहां सिंधिया चुनाव लड़ना पसंद करते हैं, इनमें एक गुना और दूसरी ग्वालियर है। फिलहाल पिछले 4 चुनावों में इस सीट पर कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया को ही जीत मिली है।2014 के लोकसभा चुनाव में उन्होंने बीजेपी के जयभान सिंह को भारी मतों से हराया था।2011 की जनगणना के मुताबिक गुना की जनसंख्या 24 लाख 93 हजार 6 सौ 75 हैं. यहां की 76.66 फीसदी आबादी ग्रामीण क्षेत्र और 23.34 फीसदी आबादी शहरी क्षेत्र में रहती हैं। गुना में 18.11 फीसदी लोग अनुसूचित जाति और 13.94 फीसदी लोग अनुसूचित जनजाति के हैं। चुनाव आयोग के आंकड़े के मुताबिक 2014 में गुना में कुल 16 लाख 5 हजार 6 सौ 19 मतदाता थे। जिसमें से 7 लाख 48 हजार 2 सौ 91 महिला मतदाता और 8 लाख 57 हजार 3 सौ 28 पुरुष मतदाता थे।