नरोत्तम मिश्रा का कमलनाथ पर कटाक्ष ‘वे दिल्ली में रहते हैं, आत्मा श्यामला हिल्स में भटकती रहती है’

Narottam Mishra on Kamal Nath : कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के सीएम हाउस में हुई बैठक को लेकर दिए गए बयान पर गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि सरकार जाने के बाद कमलनाथ जी सशरीर तो दिल्ली में रहते है लेकिन सत्ता सुख प्राप्ति के लिए उनकी आत्मा श्यामला हिल्स में ही भटकती रहती है। शायद इसलिए ही उन्हें पता चल जाता है कि सीएम हाउस में हुई बैठकों में होता क्या है।

कमलनाथ पर तंज

गृह मंत्री ने कहा कि कमलनाथ जी ने बयान दिया है कि ‘सीएम हाउस में गत दिवस हुई बैठक अधिकारियों/कर्मचारियों पर दबाव बनाने के लिए आयोजित कि गई थी। मैं कमलनाथ जी से पूछना चाहता हूँ, कि उनके पास ऐसी कौन सी दिव्य दृष्टि है जो वह सीएम हाउस में हुई बैठकों का हाल उनको बता देती है। मुझे तो लगता है कि कमलनाथ जी सशरीर भले ही दिल्ली में रहते हो लेकिन सत्ता सुख प्राप्ति कि लालसा में उनकी आत्मा या कहे लालसा श्यामला हिल्स सीएम हाउस में ही भटकती रहती है। इसलिए उन्हें सब पता चल जाता है।’ उन्होने कहा कि कमलनाथ जी जितनी चिंता बीजेपी की करते हैं, अगर उतनी चिंता अपनी सरकार व विधायकों की कर लेते तो न सरकार गिरती और न ही 40 विधायक पार्टी छोड़कर जाते। राष्ट्रपति चुनाव में क्रॉस वोटिंग भी नहीं होती। लेकिन कमलनाथ जी को दूसरों के घर में झांकने से ही फुर्सत नहीं मिलती। वे अपनी पार्टी पर ध्यान देते तो काँग्रेस कि यह हालत नही होती।

इंदिरा कांग्रेस अब इंटरनेट कांग्रेस हुई

न रोत्तम मिश्रा ने कहा कि ट्विटर पोस्टर और बयानों तक ही सीमित रहने वाली कांग्रेस अब इंटरनेट मीडिया कांग्रेस बन रही है। इस मीडिया की कांग्रेस को जरूरत भी है क्योंकि उनके नेता रोज़ ऐसे कारनामे करते हैं कि उसे दुनिया को दिखाने के लिए यह मीडिया जरूरी भी है। अब इंदिरा कांग्रेस इंटरनेट कांग्रेस बन कर ही रह गयी है। गृह मंत्री ने कहा ‘उनके नेताओं की स्थिति देखो कोई खंबे पर चढ़ रहा है। कोई रिवॉल्वर चला रहा है, गाना गाते में डिस्को करते फायरिंग कर रहा है। यह सब अब कांग्रेस का इंटरनेट मीडिया जनता को दिखाएगा जिससे उनके नेताओं का सम्मान समाज में ओर बढ़ सके।’ उन्होने कहा कि वैसे भी अब कांग्रेस ट्विटर पोस्टर और बयानों तक ही सीमित रह गई है। इंटरनेट मीडिया कांग्रेस भी बना ही रहे हैं। आने वाले समय मे कांग्रेस वर्चुअल और दूर दर्शन काग्रेंस हो जाएगी, निकट से उसके दर्शन ही नहीं होंगे।जनता तो पहले ही कांग्रेस को दूर से प्रणाम कर चुकी है।