नरोत्तम मिश्रा लिखेंगे राहुल गांधी को पत्र – ‘हिंदू विरोधी बयानों पर माफी मांगे कांग्रेस’

narottam mishra

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष सतीश जारकोहली के हिंदू शब्द को गंदा कहने पर गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने राहुल गांधी व कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने कहा कि हिंदू व हिंदुत्व के खिलाफ लगातार बयानबाजी से लगता है की राहुल गांधी भारत जोड़ने के नाम पर हिंदू तोड़ो एजेंडे पर यात्रा निकाल रहे हैं।

Indian Railways ने आज रद्द की 135 ट्रेन, IRCTC ने जारी की लिस्ट, एक बार देख लें अपना टिकट

नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि राहुल गांधी जी ने भारत जोड़ो यात्रा शुरू करने से पहले ही हिंदू व हिंदुत्व को अलग तरह से परिभाषित कर संकेत दे दिए थे कि उनकी यात्रा का असली एजेंडा जोड़ना नहीं तोड़ना होने वाला है। उसके बाद से ही साजिश के तहत कांग्रेस नेता हिंदू और हिंदुत्व को लेकर लगातार विवादित बयान दे रहे हैं। उनके नेता शिवराज पाटिल को भागवत गीता में जिहाद दिखाई देता है। सलमान खुर्शीद हिंदुत्व की तुलना आतंकी संगठन आईएसआई से करते हैं। कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष को हिंदू शब्द ही गंदा लगता है। उन्होने सवाल किया कि यह सब क्या है, कांग्रेस नेता लगातार हिंदू व हिंदुत्व को अपमानित करने वाले बयान दे रहे हैं और राहुल जी चुप रहकर उनका समर्थन कर रहे हैं।

गृह मंत्री ने कहा कि चुनाव आते ही मंदिर मंदिर मत्था टेकने वाले, कोट के ऊपर जनेऊ पहनकर घूमने वाले राहुल गांधी से पूछना चाहता हूं कि वह और कांग्रेस किस तरह के हिंदुत्व की राह पर है। वह किसे हिंदू मानती है ये स्पष्ट करे। उन्होंने कहा कि हिंदू शब्द से इसे चिढ़ है और इस तरह की बयानबाजी हो रही है। इसे लेकर उन्होने मांग की कि राहुल गांधी माफी मांगे। इतना ही नहीं गृहमंत्री ने कहा कि वो खुद राहुल गांधी को पत्र लिखेंगे और पूछेंगे कि कांग्रेस किस हिंदुत्व की तरफ है। अब समय आ गया है कि वे अपना स्टैंड स्पष्ट करें। उन्होने कहा कि राहुल जी की भारत जोड़ो यात्रा देश के 80 प्रतिशत हिंदुओ को अपमानित कर कैसे सफल होगी और हिंदुओ का अपमान कर राहुल जी देश केसे जोड़ेंगे यह तो वे ही बता सकते हैं ।मेरा मानना है की राहुल जी को हिंदुओ का अपमान करने के लिए बयानों की जो श्रृंखला चलाई जा रही है उसके लिए सबसे पहले देश से माफी मांगनी चाहिए। अब समय आ गया है कि कांग्रेस की हिंदू व हिंदुत्व को लेकर नफरत पर देश कांग्रेस से जवाब मांगे ।