बालाघाट में बढ़ा नक्सली मूवमेंट, गांवों में ले रहे बैठक

भोपाल। प्रदेश के नक्सल प्रभावित जिले बालाघाट में एक बार फिर नक्सली मूवमेंट की खबरें सामने आई है। लांजी के पुजारीटोला में हुए नक्सली एनकाउंटर के बाद से सेंट्रल कमेटी ने बालाघाट पर फोकस कर लिया है। विस्तार दलम के विस्तार के साथ ही नई भर्ती में शामिल हुए नक्सली फील्ड ट्रेनिंग कैंप लगाने की तैयारी कर रहे हंै। नक्सल प्रभावित क्षेत्र में बसे गांवों में ग्रामीणों पर दबाव बना रहे हैं। नक्सली ग्रामीणों को बरगला रहे हैं और उन पर दबाव बनाने अपहरण भी कर रहे हैं। 

हाल ही में लांजी थाना क्षेत्र के चिलकोना में नक्सलियों ने एक ग्रामीण का अपहरण किया है, सप्ताह भर बाद भी पुलिस उसका पता नहीं लगा पाई है। जिले के जंगलों में लगातार सर्चिंग और बॉर्डर कैंप के साथ महाराष्ट्र व छत्तीसगढ़ पुलिस के साथ चलाए जा रहे ज्वाइंट ऑपरेशन के बावजूद नक्सली अपनी तादाद बढ़ा रहे हैं। बड़ी वारदात की फिराक में गांव-गांव बैठक ले रहे नक्सली मुखबिरों की कुंडली तैयार कर रहे हैं। सतर्कता के बीच बढ़ रही नक्सलियों की आमद से पुलिस भी सकते में हैं। बालाघाट एसपी अभिषेक तिवारी ने बताया कि  रुपझर और लांजी थाना क्षेत्र के गांवों में नक्सलियों की आमद बनी हुई है। उनके द्वारा ग्रामीणों की बैठक लेकर उन्हें गुमराह करने की जानकारी भी पुलिस को मिल रही है। पुलिस लगातार जंगलों में और ग्रामीणों से संवाद कर उनके बहकावे में न आने की अपील कर रही है। 

इन क्षेत्रों में बढ़ी सक्रियता

टांडा दलम समेत अन्य दलों के नक्सली इन दिनों बालाघाट के नक्सल प्रभावित रुपझर थाना और लांजी थाना क्षेत्र के गांव नेवरवाही, पुजारीटोला, चिलकोना, पितकोना समेत अन्य गांवों मे ताकत बढ़ाने के लिए लगातार ग्रामीणों के साथ बैठक कर उन्हें गुमराह कर दलम में शामिल होने करने की कोशिश कर रहे हैं। नक्सली ग्रामीणों के बीच इस बात को भी रखते हैं कि केन्द्र और राज्य सरकार ग्रामीणों की तरफ ध्यान नहीं दे रही हैं।