इंदौर/आकाश धोलपुरे

मिनी मुंबई कहे जाने वाले इंदौर में बीते 3 दिनों से संक्रमितों का शतक तो नही लग रहा है लेकिन अब कुल टेस्ट किये जा रहे सैम्पल में हर 10वां मरीज पॉजिटिव निकल रहा है। बुधवार रात को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग इंदौर द्वारा जारी किये गए मेडिकल बुलेटिन की रिपोर्ट ये बताने के लिए काफी है। बुधवार को इंदौर में कुल 889 लोगो के कोविड सैम्पल टेस्ट किये गए जिनमे से 84 लोग पॉजिटिव निकले। ये बात इस ओर इशारा कर रही है कि कुल टेस्ट किये गए सैम्पल्स में से करीब 10 प्रतिशत लोग संक्रमित पाए जा रहे हैं। इंदौर में बुधवार को सामने आए 84 नये पॉजिटिव मरीजों के बाद अब कुल पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 7216 तक पहुंच गया है। बुधवार को सूबे की आर्थिक राजधानी में 2 मरीजो ने कोरोना के कारण अपनी जान गंवा दी और अब इंदौर में कोविड से मरने वालों की संख्या 310 हो गई है।

इंदौर के लिए बुधवार के लिये राहत की बात ये रही कि भले ही 84 नए पॉजिटिव मरीज सामने आए हो लेकिन अच्छी बात ये है कि 184 कोविड मरीजों ने जिंदगी की जंग जीत  ली है और बुधवार को वे स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज होकर घर लौट चुके हैं। इसके बाद अब तक डिस्चार्ज किये जा चुके कुल मरीजों का आंकड़ा 4992 पर पहुंच गया जो मुमकिन है कि गुरूवार शाम तक 5 हजार का आंकड़ा भी पार कर जाए।

फिलहाल, इंदौर में प्रशासन ने 30 जुलाई से लेकर 4 अगस्त तक पूरे शहर को खोल दिया है, ऐसे में देखना होगा कि शहर के सभी बाजार खुलने के बाद इंदौर में 6 दिनों में क्या स्थिति निर्मित होती है। एक तरफ व्यापरिक वर्ग ईद और रक्षाबंधन जैसे खास त्योहार के लिहाज से प्रशासन द्वारा दी गई छूट को डूबते को तिनके का सहारा मान रहा है वहीं प्रशासन इस बात से भी बेखबर नहीं है कि शहर में 6 दिनों में कोरोना अपनी रफ्तार बढ़ा सकता है। ऐसे में प्रशासन भी इस बात को लेकर चौकन्ना है। यही वजह है कि आज से इंदौर नगर निगम ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू प्रोटोकाल के पालन करने के लिए रोको टोको अभियान के तहत 50 ई-रिक्शा के माध्यम से जागरूकता अभियान शुरू किया है।