मन की बात: PM मोदी ने मांगी देश से माफ़ी, बोले-आपको बचाने का यही तरीका था

दिल्ली।

कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को लेकर पीएम मोदी ने आज देशवासियों से माफ़ी मांगी है। पीएम मोदी ने कहा कि देशवासियों से क्षमा मांगते हैं, क्योंकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कुछ ऐसे फैसले लेने पड़े हैं जिनसे देशवासियों को तकलीफ उठानी पड़ रही है, पीएम मोदी ने ग़रीबों से विशेष कर क्षमा मांगी है।

दरअसल, दो बार जनता से रुबरु होने के बाद आज पीएम मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में भी कोरोना का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा कि मैं इन कठोर कदमों के लिए माफ़ी चाहता हूं, जिन्होंने आपके जीवन में कठिनाइयों को जन्म दिया है, खासकर ग़रीब लोगों को। मुझे पता है कि आप मे से कुछ मुझसे नाराज़ भी होंगे। लेकिन इस लड़ाई को जीतने के लिए इन कठोर उपायों की जरूरत थी।मोदी ने कहा कि 130 करोड़ आबादी वाले देश को बचाने के लिए जीवन और मौत की लड़ाई में जीतना है ये कठोर कद उठाने थे। इसके अलावा कोई और रास्ता हीं था। इस वक्त दुनिया की जो स्थिति है उसे देखकर लगता है कि लॉकडाउन की एकमात्र रास्ता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 63वीं बार मन की बात कार्यक्रम कर रहे हैं। हर महीने के आखिरी रविवार को पीएम मोदी जनता को संबोधित करते हैं। इस बार कार्यक्रम कोरोना वायरस यानी कोविड- 19 पर फोकस है। कोरोना पर इससे पहले दो बार राष्ट्र को संबोधित कर चुके है।इससे पहले पीएम मोदी ने रविवार के रेडियो कार्यक्रम के लिए ट्विटर पर विचार मांगे थे। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी का रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ हर माह के आखिरी रविवार को प्रसारित किया जाता है।