1 अप्रैल से 8वीं तक स्कूल खोलने पर फैसला नहीं, सीएम ने कहा इसके लिए अलग से करेंगे बैठक

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में एक बार फिर कोरोना (corona) ने रफ्तार पकड़ ली है और इसके बाद शासन प्रशासन के लिए इससे निपटना फिर से एक चुनौती है। भोपाल, इंदौर सहित कई जिलों में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसे में 1 अप्रैल से कक्षा 8वीं तक के स्कूल (school) खोलने को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने पुनर्विचार करने की बात कही थी।

ये भी देखिये – बड़ा फैसला: महाराष्ट्र से आने-जाने वाली सभी यात्री बसों पर प्रतिबंध

गुरूवार को इस पर फैसला होना था, लेकिन कोरोना को लेकर मंत्रालय में बुलाई गई समीक्षा बैठक में फिलहाल इस मुद्दे पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। इस बैठक में महाराष्ट्र से आने-जाने वाली सभी यात्री बसों पर प्रतिबंध लगाने का महत्वपूर्ण फैसला लिया गया। वहीं प्राइमरी और मिडिल स्कूल खोलने या न खोलने को लेकर अलग से बैठक की जाकर उसमें निर्णय लेने की बात कही गई है।

बता दें कि सीएम पहले ही स्कूल खोलने के निर्णय पर रोलबैक की बात कह चुके हैं, इससे संकेत मिलता है कि हालिया स्थिति को देखते हुए स्कूल खोलने के पुराने निर्णय पर रोक लगाई जा सकती है। हालांकि स्कूल शिक्षा विभाग ने स्कूल खोले जाने के पूर्व आदेश के बाद से ही अपनी तैयारियां शुरू कर दी थी और नए शिक्षण सत्र के लिए स्कूलों में एडमिशन प्रक्रिया भी शुरू हो गई थी। लेकिन अब फिर से कोरोना के बढ़ते संक्रमण ने इस फैसले पर फिलहाल संशय खड़ा कर दिया है। बहरहाल, अगली बैठक में ये फैसला होने की संभावना है कि स्कूल खोले जाएंगे अथवा नहीं और सभी अभिभावकों सहित बच्चों को भी इ फैसले का इंतजार है।