भोपाल|  विधानसभा में क्रॉस वोटिंग करने वाले बीजेपी विधायक शरद कोल और नारायण त्रिपाठी के रवैये ने एक बार फिर बीजेपी की चिंता बढ़ा दी है| त्रिपाठी के बाद अब शरद कोल मंत्री जीतू पटवारी से मिलने पहुँच गए| इससे पहले त्रिपाठी भी मंत्री पटवारी से मुलाकात कर चुके हैं| हालाँकि दोनों ही विधायकों ने अपनी मुलाकात को उनके क्षेत्र से जुड़े मसलों पर चर्चा से जोड़कर बताया| लेकिन प्रदेश में चल रहे सियासी घमासान के बीच यह मुलाकातें राजनीतिक गलियारों की सुर्खियां बन रही है| 

भाजपा विधायक शरद कोल मंगलवार को मंत्री जीतू पटवारी से मुलाकात करने उनके घर पहुंचे। दोनों नेताओं के बीच काफी चर्चा हुई| इसके बाद विधायक मीडिया से मुखातिब हुए तो उन्होंने अपनी इस मुलाकात का कारण बताया| शरद कोल ने कहा मैं अपने क्षेत्र के काम की वजह से जीतू पटवारी से मुलकात करने आया था। वहीं उन्होंने आगे कहा कि मैं अभी भी भाजपा का ही सदस्य हूं। इसके अलावा अगली बार फ्लोर टेस्ट होने पर कांग्रेस या भाजपा को वोट देने के सवाल पर उन्होंने कहा कि समय बताएगा किसे दूंगा वोट। 

पिछले दिनों जब विधानसभा में शरद कोल और नारायण त्रिपाठी ने क्रॉस वोटिंग की थी तो चर्चा थी कि दोनों विधायक बीजेपी का साथ छोड़ देंगे| लेकिन शरद कोल ने खुले मंच से कहा था कि वे भाजपा में ही हैं, वहीं झाबुआ उपचुनाव से पहले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि नारायण त्रिपाठी बीजेपी में ही हैं| इस दौरान त्रिपाठी भी शामिल थे| पिछले दिनों त्रिपाठी की भी मंत्री पटवारी से मुलाकात हो चुकी है| ख़ास बात यह है कि दोनों विधायकों की मुलाकात जीतू पटवारी से ही हुई है| जिसको लेकर कई तरह की चर्चाओं को बल मिल रहा है|  दोनों विधायकों की कांग्रेस की नजदीकी से एक बार फिर चर्चाएं गर्म हो गई हैं| इन चर्चाओं को इसलिए भी बल मिल रहा है क्यूंकि कुछ दिनों पहले सीएम कमलनाथ ने कहा था दो से तीन सीट और आएँगी| वहीं महाराष्ट्र में चल रहे सियासी घमासान के बीच बीजेपी विधायक की कांग्रेस के मंत्री से मुलाकात चर्चा का विषय बनी हुई है|