भाजपा के निशाने पर इन जिलों के एसपी कलेक्टर, चुनाव आयोग में शिकायत

-On-the-target-of-BJP--the-SP-Collector-of-these-districts-complaint-to-ec

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने सीहोर, सिवनी मालवा एवं मुरैना कलेक्टर को हटाने की मांग चुनाव आयोग से की है। आयोग को सौंपे शिकायती पत्र में भाजा की ओर से कहा गया है कि सीहोर कलेक्टर ने मंदिर के बाहर नोट बांटने के मामले में कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह को क्लीनचिट दी है, जबकि मुरैना कलेक्टर ने आरोपी सीईओ को बचा लिया है। वहीं सिवनी मामला के कलेक्टर एवं एसपी कांग्रेस नेताओं के साथ मंच साझा कर रहे हैं। इन अफसरों को तत्काल हटाया जाए। इनके भरोसे निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकता है। 

शिकायत में आरोप लगाए हैं कि मंत्री एवं अधिकारियों द्वारा आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया जा रहा है। विधि मंत्री पीसी शर्मा ने गोविन्दपुरा क्षेत्र के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा है कि चुनाव के बाद आना सबको सरकारी वकील बना देंगे। शर्मा का यह कथन आदर्श आचार संहिता का खुला उल्लंघन है। कार्यवाही की जाए।

कांग्रेस नेताओं के साथ भोज कर रहे अफसर

शिकायत में कहा है कि सिवनी के जिला कलेक्टर प्रवीण सिंह अढायच एवं पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ने सिवनी सर्किट हाउस में  सुखदेव पांसे, मोहन चंदेल कांग्रेस नेता, रजनीश सिंह समेत अन्य कांग्रेस नेताओं के साथ मीटिंग की। जिसमें कांग्रेस नेता अधिकारियों को पार्टी हित में काम करने के लिए निर्देश देते रहे, जिन्हें दोनों अधिकारियों ने डायरी में नोट भी किया। इस दौरान कलेक्टर एवं एसपी ने कांग्रेस नेताओं के साथ सहभोज भी किया। इस भोजन का खर्चा पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा उठाया गया। आचार संहिता उल्लंघन मामले में सिवनी कलेक्टर एवं एसपी को हटाया जाए। 

दोषी जनपद सीईओ को दी क्लीन चिट

मुरैना कलेक्टर प्रियंका दास ने कैलारस जनपद सीईओ का ेजांच में दोषी पाए जाने के बावजूद भी क्लीनचिट दे दी। पत्र में कहा गया है कि कांग्रेस प्रत्याशी के इशारों पर काम करने वाली रिटर्निंग ऑफिसर के रहते निष्पक्ष चुनाव की उम्मीद नहीं है, इसलिए उन्हें तत्काल हटाया जाए। इसके साथ ही पार्टी ने चुनाव आयोग से मांग की है कि जांच अधिकारी विनोद सिंह की रिपोर्ट की जांच की जाए और दोषी जनपद पंचायत सीईओ एमपी सिंह के खिलाफ भी कार्रवाई की जाए।

नोट बांटने मामले में कलेक्टर की रिपोर्ट दें

भाजपा ने सीहोर कलेक्टर पर भोपाल लोकसभा सीट से कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजयसिंह को नोट बांटने वाले मामले में क्लीन चिट देने के आरोप लगाए हैं। भाजपा ने मांग की है कि इस मामले में कलेक्टर ने जो जानकारी आयोग को दी है और आयोग ने जो निर्देश जारी किए हैं, उनकी प्रतिलिपि पार्टी को उपलब्ध कराई जाए।