दिग्विजय के खिलाफ शिवराज को लड़ाने सक्रिय विरोधी खेमा

opposition-group-want-to-contest-election-shivraj-against-digvijay-singh--

भोपाल। कांग्रेस हाईकमान ने भाजपा के कब्जे वाली भोपाल लोकसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उताकर भाजपा की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। एक सीट के फेर में भाजपा आधा दर्जन से ज्यादा सीटों पर प्रत्याशी तय नहीं कर पा रही है। मप्र भाजपा में एक बड़ा खेमा शिवराज सिंह चौहान को भोपाल से प्रत्याशी बनाने के पक्ष में है, इसके लिए दिल्ली तक लॉबिंग भी हो चुकी है। लेकिन शिवराज सिंह चौहान विदिशा से चुनाव लडऩे के पक्ष में है। हालांकि भोपाल से भाजपा का प्रत्याशी सामने नहीं आने की वजह से दिग्विजय सिंह दिनों-दिन मजबूत हो रहे हैं। हालांकि भोपाल से लड़ने पर शिवराज कह रहे हैं कि हाई कमान जहां आदेश करे वे वहाँ से लड़ने को तैयार हैं| शिवराज, नरेंद्र तोमर समेत कई नेताओं के नाम भोपाल से चल रहे हैं| 

भाजपा की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को दिग्विजय के सामने उतारा जाता है तो 16 साल बाद दोनों नेता एक दूसरे के खिलाफ चुनाव मैदान में होंगे। भोपाल लोकसभा सीट लंबे समय से भारतीय जनता पार्टी के कब्जे में है। पिछला लोकसभा चुनाव में भोपाल सीट भाजपा के आलोक संजर ने कांग्रेस के पीसी शर्मा को करीब 3 लाख से ज्यादा मतों से हराकर जीती थी। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने इस बार भाजपा के कब्जे वाली लोकसभा सीटों पर बड़े नेताओं से चुनाव लडऩे की अपील की है। इसके बाद दिग्विजय सिंह ने किसी भी सीट से लडऩे का ऐलान कर दिया था। कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने सबसे पहले दिग्विजय सिंह के नाम का भोपाल सीट से ऐलान किया था। अब देखना यह है कि भोपाल को खुद का गढ़ मानने वाले भाजपा किसी प्रत्याशी बनाती है और अपना गढ़ बचाने में कामयाब रहती है या नहीं।