विपक्ष का सवाल-लॉक डाउन में आखिर कहां गायब है सांसद साध्वी प्रज्ञा

sadhvi-pragya-thakur-submit-review-petition-in-election-commission-

भोपाल।कोरोना संकटकाल (Corona crisis) के बीच भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर (Bhopal MP Sadhvi Pragya Thakur) का नदारद रहना सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बन गया है। विपक्ष ने कोरोना महामारी में भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर के संसदीय क्षेत्र से नदारद रहने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि कोरोना महामारी के समय आम जनता को संकट में छोडकर गायब होना सांसद बेहद चिंताजनक है यदि सांसद महोदया क्षेत्र में होती तो भोपाल के मजदूर, आमजन जो दूसरे प्रदेशो में फंसे है उन्हें घर वापस लाने में मदद हो सकती थी। सांसद के गायब होने के साथ ही लोगों की आशा खत्म हो गई है। भोपाल सांसद की जनता के प्रति बेरुखी से आमजन परेशान है यदि आज वे लोगों के बीच होती तो दूसरे राज्यों में फंसे भोपाल के मजदूरों को वापस लाने के लिए तेजी से प्रयास होते, ई पास की व्यवस्था होती, प्रशासनिक अमले को जनता की सेवा के लिए तैनात कराती लेकिन सांसद महोदय के अचानक गायब हो जाने से लोगों के सारे सपने साध्वी ने लूट लिए, यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

शर्मा ने कहा कि जब सांसद को जनता की मदद के लिए आगे आना था तब वो गायब है और जो दिग्विजयसिंह चुनाव हार गए थे वो लगातार जनता की मदद के लिए मैदान में है। पूर्व मंत्री ने मांग करते हुए कहा कि शिवराज जी तो कहते है कि कोरोना ज्यादा खतरनाक नही है, .तो फिर मुख्यमंत्री शिवराज को मंत्रालय से बाहर निकलना चाहिए।लोगों से मिलना चाहिए उनकी परेशानियों को दूर करना चाहिए। मुख्यमंत्री शिवराज क्यों मंत्रालय से बाहर नहीं आ रहे है।जब कोरोना खतरनाक नहीं है तो फिर क्यों लॉकडाउन जारी है उसे हटा देना चाहिए।वही पीसी शर्मा ने शिवराज सरकार से इस संकट की घ़डी में लोगों को राहत देने के लिए तीन माह के बिजली के बिल, रोड टैक्स, प्रापर्टी टैक्स, बच्चों की स्कूलों की फीस माफ करने की मांग कीहै।

शर्मा ने कहा कि कमलनाथ सरकार के फैसलों की जांच के लिए बनाए मंत्रियों की समिति पर पूर्व मंत्री ने कहा कि ये आठवां आश्चर्य है, बीजेपी में आगे आगे देखिए होता है क्या।अभी तो बहुत कुछ देखने को मिलेगा। कांग्रेस बीजेपी ने उपचुनाव की तैयारियों की शुरुआत कर दी है,जिसको लेकर पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि जिस दिन से सरकार गिरी है उस दिन से कांग्रेस की वापसी की तैयारी शुरू हो गई है।भाजपा के कैंडिडेट फिक्स है जो कांग्रेस के बागी है वहीं भाजपा से लड़ेंगे लेकिन कांग्रेस अपनी पूरी ताकत झोंकेगी।