MP: मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट, इन जिलों में भारी बारिश के आसार

9384
Orange-alert-in-madhya-pradesh-heavy-rain-in-these-districts

भोपाल| मध्य प्रदेश में मानसून की जबरदस्त वापसी हुई है, लगातार बारिश से कई जगह बाढ़ के हालत बन गए हैं| नदी नाले उफान पर चल रहे हैं, जिसे पार करते कई जगह लोगों के फंसे होने और बहने की खबरे हैं| वहीं  सोमवार को मौसम विभाग ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है| प्रदेश के 27 जिलों में भारी बारिश और कहीं कहीं अति वृष्टि की संभावना जताई गई है| भिंड जिले में कल तेज बारिश के दौरान बिजली गिरने से विभिन्न स्थानों पर तीन लोगों की मौत हो गई। वहीं शिवपुरी जिले में भी एक पिता-पुत्र पर बिजली गिरने से बच्चे की मौत हो गई। वहीं सीहोर में एक पुलिया पर तेज बहाव के पानी में एक बालक डूब गया।  बालक की पहचान खजुरिया कासम निवासी कृष्णपाल (8) के तौर पर हुई है।

मौसम विभाग ने प्रदेश में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है| आगामी 48 घंटों के दौरान इंदौर, धार, अलीराजपुर, होशंगाबाद, सीहोर, गुना, उज्जैन, छिंदवाड़ा, हरदा, राजगढ़, नीमच, रतलाम, अशोकनगर, आगर, श्योपुरकलां, बालाघाट, अनूपपुर, डिंडोरी, विदिशा, बड़वानी, खरगोन, खंडवा, झाबुआ, बुरहानपुर, शाजापुर, मंदसौर और सिवनी जिले में भारी बारिश की चेतावनी तो कहीं कहीं अतिवृष्टि के आसार हैं| 

भारी बारिश से यहां बिगड़े हालात 

खंडवा जिले के आशापुर की अग्नि नदी के उफान पर आने से खंडवा होशंगाबाद भोपाल हाइवे पर बना पुल डूब गया वहीं जलस्तर बढ़ने से आदिवासी छात्रावास में रहने वाली करीब 150 छात्राए पानी में फंस गई।  जिन्हें  रेस्क्यू कर सुरक्षित बाहर निकल कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। वहीं सीहोर जिले में कल एक पुलिया पर तेज बहाव के पानी में एक बच्चा डूब गया। देर रात तक उसका कुछ पता नहीं चल सका। उसकी पहचान खजुरिया कासम निवासी कृष्णपाल (8) के तौर पर हुई है। खंडवा, खरगोन और बुरहानपुर जिले में भारी बारिश से जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। खरगोन जिले के झिरन्या क्षेत्र में सोमवार सुबह 5 बजे से लगातार बारिश हो रही है। इससे छोटे-बड़े नदी नालों में बाढ़ आ गई है। खेतों में जलभराव की स्थिति बन गई है। खरगोन और खंडवा से संपर्क कट गया है। बुरहानपुर जिले में भी रात से लगातार बारिश जारी है। यहां ताप्ती नदी का उफान पर आ गई है और खतरे के निशान के एक मीटर ऊपर पहुंची गई है। पुराना पुल भी डूब गया है। नदी तट व लाल देवल मंदिर के डूबने पर प्रशासन ने हाई अलर्ट किया है। वहीं निमाड़ हॉस्पिटल के पास नाले की बाढ़ से सड़क बह गई है। निचले इलाकों में बसाहट खाली कराई गई है।  राजगढ़ जिले में विभिन्न स्थानों पर तीन लोग तेज पानी के बहाव में बह गए। तीनों को तलाशने के प्रयासों में देर रात तक सफलता नहीं मिल सकी थी। भिंड जिले में कल तेज बारिश के दौरान बिजली गिरने से विभिन्न स्थानों पर तीन लोगों की मौत हो गई। शिवपुरी जिले में भी एक पिता-पुत्र पर बिजली गिरने से बच्चे की मौत हो गई। वहीं शाजापुर जिले के विभिन्न हिस्सों में भी तेज बारिश के बाद एक तालाब का पानी ग्रामीण क्षेत्रों में प्रवेश कर गया। कालापीपल के खोकरां कलां गांव में बाढ़ की हालत बनने के बाद बचाव दल और प्रशासन के दस्ते ने ग्रामीणों को नावों की मदद से बाहर निकाला।

इंदौर की आसपास नदी नाले उफान पर

इंदौर में भी लगातार बारिश से शहर के कई निचले क्षेत्रों में जलभराव की स्थिति निर्मित हो गई। इंदौर के साथ ही आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में भी बादल बरस रहे हैं जिसके चलते कान्हा, सरस्वती और चंद्रभागा नदियों में पानी का स्तर बढ़ गया।  इंदौर के अलावा देवास, उज्जैन, खंडवा, शाजापुर, मंदसौर, खरगोन आदि जिलों में भी रुक-रुक कर बारिश हो रही है। इन जिलों की कई नदियों में जलस्तर बढ़ने से निचले पुल-पुलियों के ऊपर से पानी जा रहा है। इसके चलते आवागमन अवरुद्ध हो गया।

नर्मदा के सभी घाट जलमग्न

ओमकारेश्वर में नर्मदा के सभी घाट जलमग्न हो गए है। नर्मदा के जल स्तर में बढ़ोतरी हुई है और ओमकारेश्वर बांध से चेतावनी दी जा रही है कि ओमकारेश्वर आने वाले श्रद्धालु घाटों पर न पहुंचे। ओमकारेश्वर में लगातार सायरन बजाकर श्रद्धालुओं को नर्मदा के बढ़े हुए जल स्तर से दूर रहने की जानकारी दी जा रही है। इधर खंडवा शहर में कई स्थानों पर जलभराव की स्थिति बन गई है। रेलवे की तीन पुलिया अंडर ब्रिज में भी पानी भर जाने से शहर की लगभग एक दर्जन कॉलोनियों का यातायात अवरुद्ध हुआ है। मृगवास की अंधेरी नदी में बाढ़ आने से आसपास की 30 दुकानें एक सरकारी स्कूल और मार्केटिंग सोसायटी के भवन पानी की चपेट में आ गए। स्कूल में रखे तमाम रिकॉर्ड आदि बर्बाद हो गए। वहीं सोसायटी के भवन में खाद, अनाज आदि खराब हो गया। खटकिया से चांचौड़ा तक का रास्ता दोपहर तक बंद रहा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here