भारत की चेतावनी के बाद पाकिस्तान विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने तैयार, कल होगी रिहाई

3790
-Pakistan-PM-Imran-Khan-announces-will-release-abhinandan-tomorrow

नई दिल्ली| पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों के साथ झड़प के दौरान पाकिस्तान में गिरे मिग-21 के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान में पाक के कब्जे में है| उन्हें सुरक्षित अपने देश वापस लाने के लिए भारत की ओर से पूरी कोशिश की जा रही है|   भारत ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अगर अभिनंदन की रिहाई के बदले पाक सौदेबाजी की उम्मीद कर रहा है तो यह उसकी बड़ी भूल है। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने कहा कि अगर भारत तनाव कम करने को तैयार है, तो रिहाई पर विचार किया जा सकता है। इस बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने भारतीय पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने का ऐलान किया है|  भारतीय पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करने को पकिस्तान तैयार हो गया है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद में ऐलान किया है कि हम शांति की पहल के तहत अभिनंदन को कल रिहा देंगे। अभिनंदर वाघा बॉर्डर के जरिए कल लौट आएगा। अभिनंदन की रिहाई को भारत की बड़ी कूटनीतिक कामयाबी माना जा रहा है। 

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की रिहाई के लिए भारत के साफ़ रुख से पाकिस्तान पर दवाब है| अभिनन्दन के विडियो को पाकिस्तान ने सोशल मीडिया पर सर्कुलेट किया, जो जिनीवा कन्वेंशन का खुला उल्लंघन है। भारत और पाकिस्तान के बीच भले ही युद्ध न छिड़ा हो, फिर भी अभिनंदन उन सभी अधिकारों के हकदार हैं, जो जिनीवा कन्वेंशन के तहत प्रिजनर ऑफ वॉर (PoW) यानी एक युद्धबंदी को मिलती हैं। PoW के साथ किस तरह का व्यवहार होना चाहिए, इसके बारे में 1949 का जिनीवा कन्वेंशन साफ-साफ कहता है कि यह उन सभी मामलों में लागू होता है, चाहे घोषित युद्ध का मामला हो या नहीं। इस तरह, पाकिस्तान को विंग कमांडर अभिनंदन को हर हाल में छोड़ना ही होगा, क्योंकि पाकिस्तान ने भी जिनीवा कन्वेंशन पर दस्तखत किए हैं। 

जवाजों के परिवार से हैं विंग कमांडर अभिनंदन 

विंग कमांडर अभिनंदन जवाजों के परिवार से है जो सभी देश सेवा में रहे हैं| उनकी पत्नी तन्वी मारवाह स्क्वाड्रन लीडर के पद से रिटायर हो चुकी हैं। अभिनंदन के पिता एस वर्तमान वायु सेना में फाइटर पायलट रहे हैं। पिता एस वर्तमान चेन्नई में रहते हैं। अभिनंदन ने अपने पिता के नक्शे कदम पर चलकर 2004 में वायु सेना ज्वॉइन की थी। उनके पिता एस वर्तमान 1973 में फाइटर पायलट बने थे। वे देश के उन चुनिंदा पायलटों में शुमार हैं, जिनके पास 40 तरह के विमान और 4000 घंटे से ज्यादा उड़ान भरने का अनुभव है। वे करगिल युद्ध के दौरान मिराज स्क्वाड्रन के चीफ ऑपरेशन्स ऑफिसर थे। उन्होंने मणिरत्नम की फिल्म कातरू वेलियिदाई के निर्माण में भी मदद की थी। इस फिल्म की कहानी भी वायु सेना के एक पायलट की पाकिस्तान में गिरफ्तारी पर आधारित थी।

 मालूम हो, बुधवार को पाकिस्तान के विमानों ने भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश की, जिन्हें सफलतापूर्वक खदेड़ दिया गया। पाकिस्तान के एफ-16 विमान को पीछा करने वालों में भारत का मिग-21 भी था, जिसे वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन उड़ा रहे थे। पाक विमान का पीछा करने के चक्कर में अभिनंदर पीओके में चले गए, जहां उनके विमान पर मिसालइ दागी गई। उनका मिग-21 क्रैश हो गया और वे पैराशूट से बाहर निकल आए, जिसके बाद पाक सेना ने उन्हें पकड़ लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here