मध्य प्रदेश में बिजली मारेगी ‘करंट’, 12 फीसदी महंगी करने की तैयारी

Preparation-of-electricity-Expensive-to-12-percent-in-madhya-pradesh

भोपाल। प्रदेश में जल्द ही बिजली महंगी होने जा रही है। बिजली कंपनियों के प्रस्ताव पर अमल किया गया तो फिर प्रदेश में 12 फीसदी तक बिजली महंगी हो सकती है। चुनाव से पहले कंपनी महज 1.5 फीसदी इजाफा करने का दावा कर रही थी्र लेकिन चुनाव निपटते ही मप्र पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने संशोधित प्रस्ताव बनाकर दाम 12 फीसदी बढ़ाने का प्रस्ताव भेज दिया है। जिस पर मप्र विद्युत नियामक आयोग को फैेसला करना है। 

बिजली कंपनी ने फरवरी 2019 में मप्र विद्युत नियामक आयोग को टैरिफ प्रस्ताव भेजा। इसमें 1.5 फीसद औसत बढ़ोतरी का जिक्र किया। बिजली कंपनी ने पिछले 23 और 25 मई को दोबारा रिव्यू पिटीशन दायर की। जिसमें 4098 करोड़ का घाटा बताते हुए 12 फीसदी बिजली के दाम बढ़ाने की सिफारिश की गई। सूत्रों की माने तो साल नवंबर 2018 में मप्र पॉवर मैनेजमेंट कंपनी ने टू-अप पिटीशन दायर कर 3837 करोड़ रुपए का घाटा दर बढ़ाकर मांगा था। जिसे आयोग ने मंजूर किया है। इसी के बाद दाम बढ़ाने की तैयारी हुई।

100 यूनिट पर 25 रुपए बढ़ेगा बिल

बिजली कंपनी के प्रस्ताव को मंजूरी मिली तो तो 100 यूनिट बिजली की खपत वाले उपभोक्ता के मौजूदा बिल में करीब 25 रुपए अतिरिक्त बोझ आएगा। घरेलू उपभोक्ता को मौजूदा टैरिफ के मुताबिक औसत दाम 5.95 रुपए प्रति यूनिट बिजली मिलती है| बिजली की मौजूदा द��� के हिसाब से अभी 100 यूनिट बिजली बिल का दाम करीब 517 रुपए आता है। बिजली के दाम बढ़े तो ये करीब 542.50 रुपए के आसपास होगा। करीब 25 रूपए का अंतर आएगा

ऐसा है फिक्स जार्च

बिजली कंपनी ने फिक्स जार्च बिल में ऊर्जा प्रभार के साथ जुड़कर आता है। अभी उपभोक्ता को 101 यूनिट से 300 यूनिट तक खपत पर शहर में 90 और गांव में 65 रुपए जार्च देना होता था। इसे अब 80 रूपए किया है। वहीं 101 से 300 यूनिट में 17 रूपए प्रति आधा किलोवाट लोड पर बढ़ाकर 24 रूपए। तथा 300 यूनिट से ऊपर पर 21 रूपए प्रति आधा किलोवाट से बढ़ाकर 27 रूपए प्रति आधा किलोवाट करने का प्रस्ताव बनाया है।