जबलपुर।

प्रदेश में कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहे सरकार को प्रदेश में सभी दलों का समर्थन मिला है। सभी अपनी अपनी तरफ से इस महामारी में आम जनता केवल आपके लिए सामने आए हैं। इसी बीच राज्यसभा सांसद विवेक तंखा ने ट्वीट कर कोरोना से लड़ने के लिए मध्य प्रदेश सरकार को 6 सुझाव दिए हैं। वहीं राज्यसभा सांसद विवेक तंखा ने कहा है कि इस महामारी के खिलाफ जंग में किसी भी प्रकार की राजनीति से बचना चाहिए।

शुक्रवार को अपने ट्वीट में राज्यसभा सांसद तंखा ने कहा कि इस महामारी से निपटने के लिए राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर टास्क फोर्स गठित किया जाना चाहिए। वहीं पूरे देश में कोरोना ट्रीटमेंट हॉस्पिटल बनाए जाने चाहिए। जिसके साथ ही साथ पीपी ई किट्स की आपूर्ति भी बढ़ाई जानी चाहिए। वहीं संदिग्धों के लिए आइसोलेशन वार्ड की संख्या मैं बढ़ोतरी के साथ ही गरीबों को भोजन एवं नगद राशि की सुविधा भी दी जानी चाहिए। वहीं राज्यसभा सांसद विवेक तंखा ने कहा है कि इस महामारी के खिलाफ जंग में किसी भी प्रकार की राजनीति से बचना चाहिए।

बता दें कि इससे पहले मुख्यमंत्री चौहान द्वारा प्रदेश में एस्मा लगाने के बाद भी विवेक तंखा ने स्वीट कर मुख्यमंत्री पर निशाना साधा था। जवानों ने अपने ट्वीट में लिखा था कि कोरोना महामारी का मामला सामाजिक नेतृत्व दिखाने का है। कोरोना संक्रमित अन्य राज्यों में एक मुख्यमंत्री सेना के कमांडर जैसे फ्रंट पर जाकर मामले का नेतृत्व करता है। उन्होंने मुख्यमंत्री चौहान को सुझाव देते हुए ट्वीट में लिखा है कि अर्थहीन मीडिया क्लिप के बजाय नियोजित कार्यवाही के दृष्टिकोण से जनता को आश्वस्त करें। वहीं उन्होंने एस्मा लगाए जाने का विरोध करते हुए कहा है कि यह मुश्किल घड़ी है। ऐसे में आसमा की धमकी के जगह पर अधिकारियों को काम करने के लिए प्रेरित करें।