भोपाल। मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष के लिए कई नेताओं का नाम दावेदारी में शुमार है। वर्तमान अध्यक्ष राकेश सिंह हैं। पार्टी ने उनके नेतृत्व में बहुत कम अंतर से विधानसभा चनाव हारा है लेकिन लोकसभा चुनाव में पूरी बाज़ी पलट गई। लोकसभा में 29 में से 28 सीटों पर पार्टी ने कब्जा किया। लेकिन विधानसभा चुनाव की हार के बाद से ही राकेश सिंह को लेकर पार्टी के अंदर कई बार विवाद खुलकर सामने आया। पार्टी नेताओं ने उनके नेतृत्व को चुनौती भी दी। अब अंदर खाने की खबर है कि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व और संघ की सहमति के बाद राकेश सिंह का नाम दोबारा प्रदेश अध्यक्ष के लिए चुन लिया गया है। ओपचारिक घोषणा के लिए चुनाव की तारिख घोषित की जा सकती हैं। 

दरअसल, सांसद राकेश सिंह के प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर पार्टी ने दोबारा मौका देने का पूरा मन बना लिया है। उनको दूसरी पारी के लिए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और संघ की ओर से हरी झंडी मिल चुकी है। प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव के लिए 15 जनवरी के बाद कभी भी घोषणा की जा सकती है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उनको पार्टी अध्यक्ष शाह का समर्थन मिल गया है। बता दें विधानसभा चुनाव के कुछ दिन पहले पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार चौहान को हटाया गया था और सिंह को कमान सौंपी गई थी। राकेश सिंह को कमान संभाले डेढ़ साल का कार्यकाल हो चुका है। हालांकि, तीन साल में से अभी भी उनके पास समय है। ऐसा माना जा रहा है कि पार्टी उन्होंने दोबारा मौका देगी। 

ह नेता कर रहे विरोध

राकेश सिंह को दोबारा प्रदेश अध्यक्ष बानए जाने को लेकर कई दिग्गज नेता विरोध भी कर रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा, पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और कुछ अन्य नेता सिंह के नाम पर समर्थन में नहीं हैं। वहीं, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राकेश सिंह की मुखालफत नहीं की है। न ही उन्होंने किसी और के नाम की सिफारिश की है। हालांकि, इस दौड़ में पार्टी के कुछ और भी नेता शामिल हैं। इनमें पूर्व मंत्री लाल सिंह आर्य, भूपेंद्र सिंह, विश्वास सारंग, अरविंद भदौरिया और प्रभात झा का नाम भी शामिल है।  चूंकि राज्य का चुनाव चार साल बाद होगा, इसलिए पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व राज्य इकाई में बड़े बदलाव के लिए उत्सुक नहीं है। इस हिसाब से सिंह को दूसरा मौका दिया मिल सकता है।