16 जनवरी से शुरु होगा Corona Vaccination Program, सीएम ने कहा-टीका है सुरक्षित, भ्रम न फैलायें

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) को लेकर लोगों से अपील करते हुए कहा कि 'यह टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। आप सबसे आग्रह है कि संदेह का वातावरण न बनायें। सुनी-सुनाई बातों पर वैक्सीन के विरुद्ध भ्रम न फैलायें।

मुख्यमंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। लंबे समय तक कोरोना महामारी (Corona epidemic) से जंग लड़ने के बाद अब कोरोना वैक्सीनेशन (Corona vaccination) भारत में शुरू हो गई है। जिसमें सभी प्रदेश के लोगों को धीरे-धीरे करके कवर किया जा रहा है, लेकिन कई जगह इसके साइड इफेक्ट (side effect) सामने आ रहे है। साथ लोगों को द्वारा भी अफवाहें फैलाई जा रही है। इसी के संबंध में मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि ‘यह टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। आप सबसे आग्रह है कि संदेह का वातावरण न बनायें। सुनी-सुनाई बातों पर वैक्सीन के विरुद्ध भ्रम न फैलायें।

 

सीएम ने प्रधानमंत्री का किया अभिनंदन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने ट्वीट कर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) का अभिनंदन किया है। उन्होंने कहा कि ‘मैं भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का अभिनंदन करना चाहता हूं, जिस ढंग से COVID-19 जैसी बीमारी का उनके सफल नेतृत्व में नियंत्रण किया गया, वह अभूतपूर्व है। अब दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान (Vaccination campaign) उनके नेतृत्व में देश में प्रारंभ हो रहा है।

 

MP वैक्सीनेशन प्रोग्राम 16 जनवरी से होगा शुरू

सीएम शिवराज सिंह (CM Shivraj Singh) ने कहा कि मध्यप्रदेश में वैक्सीनेशन की पूरी तैयारी हो चुकी है। इस कार्यक्रम को हम 16 जनवरी से प्रदेश में प्रारम्भ कर रहे हैं। सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिस के जवानों और सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स (Frontline workers) को लगाये जायेंगे। आगे उन्होंने कहा कि यह टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। आप सबसे आग्रह है कि संदेह का वातावरण न बनायें। सुनी-सुनाई बातों पर वैक्सीन के विरुद्ध भ्रम न फैलायें। ऐसे प्रयासों से COVID-19 के विरुद्ध हमारी लड़ाई कमजोर होगी। हमें मिलकर लड़ना और जीतना है।

 

कोरोना वैक्सीनेशन के लिए 302 स्थानों का चयन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में फ्रंटलाइन वर्कर्स और स्वास्थ्य कर्मी की संख्या लगभग चार लाख 16 हजार है। अगर पूरे देश में हम देखे तो इसे मिलाकर फ्रंटलाइन वर्कर और हेल्थ केयर वर्कर लगभग तीन करोड़ है। इस अभियान के दौरान बाकी प्राथमिकता जो तय की गई है- 50 साल से ज्यादा जिनकी उम्र है या जिनको कई तरह की बीमारियां हैं, वह संख्या लगभग 30 करोड़ है। यह दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन प्रोग्राम (Vaccination program) है। जिसके लिए मध्यप्रदेश में तैयारी पूरी कर ली गई है। सीएम ने कहा कि पूरे मध्यप्रदेश में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए 302 स्थलों का चयन किया गया है।

कोरोना वैक्सीनेशन के संबंध में सीएम ने कही ये बातें

उन्होंने कहा कि एक बात बिल्कुल साफ है कोरोना वैक्सीन को वैज्ञानिक समूहो द्वारा प्रमाणित किया गया है कि यह वैक्सीन 100 फीसदी सुरक्षित है। यह एंटीबॉडीज बनाएगी और शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करेगी, जो संदेह से परे है। ऐसे में किसी के मन में भी यह संदेह नहीं होना चाहिए कि टीका लगवाए या ना लगवाए। पूरी तरह से सुरक्षित विकल्प हमारे देश ने चुना है और दोनों वैक्सीन का जो स्तर है वह सर्वश्रेष्ठ है। इसीलिए इसके बारे में मेरा सभी से आग्रह है कि कोई भ्रम ना फैलाए, संदेह का वातावरण पैदा ना करें और कोई ऐसी चर्चा ना करें जिसके कारण लोग वैक्सीन लगवाने से झिझकने लगे। क्योंकि यह कोरोना के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर करेगा।