फिल्ममेकर करण जौहर की बुआ से जुड़े मामले में 2 पुलिसकर्मियों को राहत, जमानत याचिका मंजूर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। राजधानी भोपाल में मशहूर फिल्म निर्माता निर्देशक करण जौहर (karan johar) की बुआ गुलशन जौहर के साइबर सेल से जुड़े एक मामले दो पुलिसकर्मियों को राहत मिली है। पुलिसकर्मी इंद्रपाल और सौरभ भट्ट को जबलपुर हाइकोर्ट से जमानत दी गई है। उन्हें 50 हजार के बांड पर जमानत मिली है।

IAS ने लगाया पत्नी पर मोबाइल चोरी का आरोप, एयरपोर्ट पर हुई जांच

कॉन्स्टेबल इंद्रपाल और सौरभ भट्ट के अधिवक्ता अंकित सक्सेना ने बताया कि हाइकोर्ट ने इन्हें जमानत पर रिहा कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में मध्यप्रदेश शासन पर 10 लाख का जुर्माना लगाया था। फरियादी पर गलत कार्रवाई को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पुलिस पर जुर्माना लगाने के साथ फटकार भी लगाई थी।

ये है मामला
साल 2012 में फरियादी गुलशन जौहर ने लोकायुक्त में तत्कालीन साइबर सेल के डीएसपी दीपक ठाकुर, कांस्टेबल इरशाद परवीन, कांस्टेबल सौरव भट्ट और कांस्टेबल इंद्रपाल सिंह के खिलाफ शिकायत की थी कि इन लोगों ने एक मामले में चालान पेश करने के लिए साढ़े तीन लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। लंबी जांच के बाद चारों के खिलाफ 2015 में एफआईआर दर्ज की गई। बता दें कि इस मामले में फिल्म निर्माता करण जौहर की बुआ फरियादी हैं। साइबर सेल ने एक मामले में करण जौहर की बुआ गुलशन जौहर और उनकी बेटी रिनी जौहर को आरोपी बनाया था। दोनों मां बेटी ने साइबर सेल पर मामले में झूठे तरीके से फंसाने का आरोप लगाया था।