साधना सिंह के चुनाव लड़ने की अटकलें तेज, पूर्व मंत्री ने कहा रिकॉर्ड मतों से जीतेंगी

-Sadhna-Singh-can-contest-election-from-Vidisha-ex-minister-support-

भोपाल| मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह के विदिशा से चुनाव लड़ने की अटकलें तेज हो गई है| विदिशा संसदीय क्षेत्र के कार्यकर्ता ने भोपाल पहुंचकर शिवराज से मांग की है, साथ ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह से भी मुलाकात की| वहीं पूर्व मंत्री रामपाल सिंह ने भी शनिवार को पूर्व सीएम से मिलकर साधना को चुनाव लड़ाने की मांग की है| उनका कहना है कि अगर साधना चुनाव लड़ती हैं तो भरी बहुमत से जीतेंगी| वहीं साधना को चुनाव लड़ाने के लिए एक तबका तेजी से सक्रिय हो गया है और 19 मार्च को दिल्ली में होने वाली केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के दौरान स्थानीय नेताओं का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मिलकर साधना सिंह के लिए टिकट की मांग करने वाला है|  

पूर्व मंत्री रामपाल सिंह ने बताया कि विदिशा संसदीय क्षेत्र के करीब डेढ़ हजार कार्यकर्ता शुक्रवार को आये थे| सभी ने एक ही सिंगल नाम भोपाल में देकर गए हैं| सभी ने पार्टी से निवेदन किया है कि संधाना सिंह को प्रत्याशी बनाया जाये| उन्होंने कहा अगर वे विदिशा से चुनाव लड़ती हैं तो रिकार्ड मतों से जीत हासिल करेंगी और उनके चुनाव लड़ने से आसपास के क्षेत्रों में भी असर दिखेगा| 

बता दें कि विदिशा से सांसद सुषमा स्वराज अब चुनाव लड़ने से इनकार कर चुकी है। वे लगातार 10 सालों से क्षेत्र की सांसद है। उनके इस ऐलान के बाद से ही विदिशा से साधना सिंह के चुनाव लड़ने की चर्चा है| चुनाव के लिए क्षेत्र के भाजपा संगठन ने आलाकमान को प्रत्याशी चयन के लिए नामों का जो पैनल भेजा है उसमें क्षेत्र के पूर्व सांसद शिवराज सिंह चौहान और उनकी धर्मपत्नी भाजपा नेत्री साधना सिंह का नाम वरीयता पर है। इनके अलावा पैनल में उदयपुरा की पूर्व विधायक शशिप्रभा सिंह राजपूत और बुदनी के पूर्व विधायक राजेंद्र सिंह राजपूत का नाम भी शामिल है।  शनिवार को पूर्व सीएम शिवराज ने उनके और उनकी पत्नी के चुनाव लड़ने पर कहा कि टिकट तो पार्टी तय करती है. मैं तो बस बीजेपी का विनम्र कार्यकर्ता हूं| पार्टी जो आदेश देगी उसका पालन करूंगा| वहीं बीजेपी कार्यालय में हुई बैठक में साधना सिंह के नाम की दावेदारी पर पूछे गए सवाल पर पूर्व सीएम ने कहा कि इसकी उन्होंने कोई जानकारी नहीं है| 

बीजेपी का गढ़ रही विदिशा सीट अपने कब्जे में बनाए रखने के लिए बीजेपी कोई रिस्क नहीं लेना चाहेगी। शायद यही वजह है कि यहां से  शिवराज और उनकी पत्नी का नाम उम्मीदवारों की लिस्ट में सबसे ऊपर रखा गया है। सूत्र ये भी बताते हैं कि शिवराज पत्नी साधना सिंह का जीत के लिए आलाकमान को भरोसा तक दिला चुके हैं और अगर वाकई ऐसा है तो फिर टिकिट फाइनल मानी जा सकती है। विदिशा संसदीय क्षेत्र में चार जिलों की 8 विधानसभा सीटें आती हैं। इनमें से 6 पर भाजपा के विधायक काबिज हैं। जबकि सांची और विदिशा में कांग्रेस के विधायक हैं। पूरे संसदीय क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ता इस बार शुरू से ही स्थानीय उम्मीदवार की मांग करते आ रहे हैं, चाहे वह विदिशा संसदीय क्षेत्र में कहीं का भी रहने वाला हो। कई बार संगठनों की बैठक में यह बात खुलकर भी रख चुके हैं। इसका मुख्य कारण सांसद तक आम जनता की पहुंच सुनिश्चित करना है।