sadhvi-pragya-thakur-join-bjp-may-be-candidate-from-bhopal-anouncement-soon-

भोपाल| लोकसभा चुनाव को लेकर मध्य प्रदेश और देश के लिए सबसे चर्चित सीट बनी भोपाल लोकसभा से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का चुनाव लड़ना लगभग तय माना जा रहा है| बुधवार सुबह से ही बीजेपी मुख्यालय पर हलचल है| प्रज्ञा ठाकुर भी बीजेपी कार्यालय पहुंची और पार्टी की सदस्यता ली| इस दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने उनका स्वागत किया है| भोपाल से चुनाव लड़ने पर साध्वी ठाकुर ने कहा राष्ट्र सुरक्षित है तो हम सभी सुरक्षित हैं, दिग्विजय सिंह के ख़िलाफ़ हम सभी मिलकर लड़ेंगे, राष्ट्र विरोधी ताकतों को टिकने नहीं देंगे| उन्होंने टिकट को लेकर भी संकेत दिए, उन्होंने कहा नाम के ऐलान के बाद वह मीडिया से मिलेंगी| भोपाल सीट को लेकर कई बड़े नेताओं के नाम सामने आ चुके हैं| संभावना है कि आज 4 बजे के बाद शेष 5 सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया जाएगा| पूर्व सीएम शिवराज ने इसके संकेत दिए हैं, उन्होंने कहा है कि आज सभी सीटों पर सस्पेंस ख़त्म हो जाएगा| 

कांग्रेस ने सबसे कठिन सीटों के फॉर्मूले के तहत भोपाल से दिग्विजय सिंह को प्रत्याशी बनाया है| दिग्विजय के मुकाबले भाजपा से कौन मैदान में होगा इसको लेकर कई नाम सामने आये| पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, उमा भारती, आलोक संजर, आलोक शर्मा समेत कई अन्य नेताओं के भी नाम चले| लेकिन पार्टी में काफी असमंजस की स्तिथि रही| अब साध्वी का नाम लगभग तय माना जा रहा है, लेकिन पार्टी नेताओं ने इसको पूरी तरह सस्पेंस बनाकर रखा हुआ है| हिंदुत्व का चेहरा मानी जाने वाली साध्वी प्रज्ञा को उतारने को लेकर पार्टी ने हर तरह से विचार किया है| पार्टी इस फैसले के नफा-नुकसान के बारे में सोच रही है। यदि ऐसा होता है तो भोपाल सीट पर काफी ध्रुवीकरण देखने को मिल सकता है। 2008 में मालेगांव ब्लास्ट में आरोपी साध्वी प्रज्ञा को पिछले साल ही एनआईए कोर्ट सबूतों के अभाव में बरी कर दिया था। 

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अभी तक भाजपा की सदस्य नहीं थी| उन्होंने भाजपा मुख्यालय पहुंचकर पार्टी की सदस्यता ली और औपचारिक रूप से भाजपा ज्वाइन की|  पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, विजेश लुनावत और प्रदेश प्रवक्ता राकेश शर्मा  ने गुलदस्ता भेंट कर साध्वी का स्वागत किया| वहीं संगठन नेताओं के साथ साध्वी ने बंद कमरे में बैठक की है| बीजेपी कार्यालय में स्वागत सत्कार और मिठाई भी बांटी गई|  इस पूरे घटनाक्रम को देखकर ही यह कयास लगाए जा रहे हैं कि साध्वी ही दिग्विजय के खिलाफ भाजपा का चेहरा होंगी| हालाँकि अभी औपचारिक ऐलान बाकी है| 

कौन है साध्वी प्रज्ञा

साध्वी प्रज्ञा, मध्य प्रदेश के एक मिडिल क्लास परिवार से हैं। वर्तमान में प्रज्ञा ठाकुर भोपाव के रुवेर टाउन स्थित अपने मकान में रहती है। शुरुआत में वह संघ और विहिप से जुड़ गईं, जिसके बाद उन्होंने सन्यास ले लिया। 23 अक्टूबर 2008 में हुए मालेगांव बम ब्लास्ट में उन्हें शक के आधार पर गिरफ्तार किया गया। 25 अप्रैल 2017 में सबूत न होने के कारण उन्हें जमानत दे दी गई। हाल ही में उन्हें इस मामले में दोषमुक्त करार दे दिया गया। वह आरएसएस की छात्र इकाई एबीवीपी की सक्रिय सदस्य भी रह चुकी हैं। इसके बाद उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद छोड़ दिया और वह साध्वी बन गई। गांव-गांव जाकर हिन्दुत्व का प्रचार करने लगी। उन्होंने अपनी कार्यस्थली सूरत को बनाया और वहीं पर एक आश्रम भी बनवाया। हिन्दुत्व के प्रचार के कारण वह बीजेपी के नेताओं को प्रभावित करने लगी और राजनीति में उनका वर्चस्व बढ़ता गया।साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अब आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी पूर्णचेतनानंद गिरी के नाम से जानी जाती हैं।