मैं कोई ज्योतिष नहीं, लेकिन इस बार मोदी सरकार का अंत संभव: सिंधिया

scindia-attack-on-modi-government-

भोपाल। मध्य प्रदेश के गुना-शिवपुरी से कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लोकसभा चुनाव को लेकर मोदी सरकार को आड़े हाथ लेते हुए जमकर हमला बोला। उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा कि वह कोई ज्योतिष तो नहीं, लेकिन मुझे ऐसा एहसास है कि इस बार बीजेपी सरकार का अंत हो जाएगा। उन्होंंने उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी  पर भी बात की। उन्होंने कहा कि ये मेरे लिए एक बड़ा मौका है। सबसे पहले मैंने पार्टी कैडरे में बदलाव करते हुए नए कार्यकर्ताओं की फौज तैयार की। जो चुनाव प्रचार का काम संभाल रही है। मैं जल्द ही पश्चिमी प्रदेश में दौरे करकना शुरू करूंगा। इसके साथ ही मध्य प्रदेश में भी मेरा पूरा फोकस रहेगा। 

इंदौर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने के सवाल पर सिंधिया ने कहा कि, मैंने कहा है कि पार्टी का जो भी फैसला हो उसे उम्मीदवार को मानना चाहिए और ये नियम मुझ पर भी लागू होता है। क्योंकि यह सभी के लिए होता है। उनसे सवाल पूछा गया कि क्या उत्तर प्रदेश में एमपी के मुकबाले मुद्दे अगल है। उन्होंने कहा कि दोनों ही प्रदेश अलग हैं हालांकि आम चुनाव होने के चलते इतना मायने नहीं रखता। दोनों जगहों पर राष्ट्रीय और स्थानीय मुद्दे हैं जो चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं। मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने सत्ता में आने के बाद किसान कर्जमाफी को लेकर बड़ा कदम उठाया है। हमने अभी तक 40 हजार करोड़ का किसानों का कर्ज माफ किया है। इसके साथ ही गेहूं पर भी हम बोनस दे रहे हैं। 

बालाकोट मुद्दे पर हम सब एक 

सिंधिया से जब बालाकोट मामले पर सवाल पूछा गया कि क्या आपको लगता सरकार को एयर स्ट्राइक के सबूत देने चाहिए? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि, मैं बहुत स्पष्ट हूं। जहां तक राष्ट्रीय सुरक्षा का सवाल है, हम भारतीय के रूप में एक स्वर में बोलते हैं। कोई बीजेपी नहीं, कोई कांग्रेस नहीं … तिरंगे की भावना और भारतीय होने की भावना, हम एक स्वर में बोलते हैं। उस मुद्दे पर,  हम सुनिश्चित करेंगे कि हम राष्ट्रीय सुरक्षा से कभी समझौता न करें, लेकिन हम राष्ट्र के साथ एक हैं। जो कोई भी सत्ता में है वह हमारे राष्ट्र में आतंक पैदा करने वालों को पर्याप्त प्रतिक्रिया देगा।

घोषणा पत्र के बारे में सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस जो वादे पूरे कर सकती है उनका ही वादा करती है। विधानसभा चुनाव में भी लोगों ने कहा था कि किसान कर्जमाफी चुनावी वादा है। लेकिन हमने सरकार में आने के बाद इसे पूरा किया। हम केंद्र में आएंगे तो भी पूरी तरह से घोषणाओं को अंजाम देंगे।