शिवपुरी। परवेज खान।
कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद गुरुवार की रात पहली बार शिवपुरी नगर में जनता के बीच पहुंचे। समर्थकों ने उनका भव्य स्वागत किया ।इस दौरान सिंधिया ने सर्किट हाउस में जनता दरबार लगाकर लोगों की वन टू वन समस्याएं सुनी।इस दौरान हार को लेकर एक बार फिर सिंधिया का दर्द मीडिया के सामने छलक आया ।उन्होंने कहा कि वे अब एक सामान्य व्यक्ति है, सांसद होते तो जनता के काम आसानी से करवा देते ।सिंधिया का बयान ऐसे समय पर आया है जब सियासी गलियारों में उनके पीसीसी चीफ बनने और राज्यसभा में जाने की अटकलें तेज है। सिंधिया के इस बयान से सियासी गलियारों में कई मायने निकलना शुरु हो गए है।

दरअसल, शिवपुरी में विकास एवं योजनाओं से जुड़े एक सवाल पर ज्योतिरादित्य सिंधिया बेहद भावुक हो गए और बोले कि क्षेत्र की जनता ने मुझे भार मुक्त कर दिया है और अब में एक सामान्य नागरिक हुं। जब उनसे पूछा गया आप कैसे सामान्य व्यक्ति हो सकते है , आधी केबिनेट तो आपकी है तो सिंधिया बोले कैबिनेट में मेरा कुछ नही है, व्यक्ति को अपना स्तर स्वतः समझना चाहिए । मैं अब एक सामान्य नागरिक हुं और  इस नाते सिर्फ योजनाओं के लिए गुहार लगा सकता हुं यदि में सांसद होता तो खुद बैठकर योजनाओं को पूरा कराता जैसे पहले कराता था लेकिन शिवपुरी की जनता ने मुझे दूर रखने का निर्णय पहले ही ले लिया था । सिंधिया के साथ शिक्षा मंत्री प्रभुराम चौधरी,महिला बाल विकास मंत्री इमरती देवी, प्रभारी मंत्री प्रधुम्न तोमर मौजूद रहे ।