सिंधिया-कमलनाथ दिल्ली में एक साथ, बढ़ी सियासी सरगर्मियां

Scindia-Kamal-Nath-together-in-delhi-increased-political-talk

भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार और संगठन में फेरबदल की अटकलों के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की दिल्ली में सक्रियता से प्रदेश में हलचल बढ़ गई है| सिंधिया ने जहां आधा दर्जन मंत्रियों के साथ बैठक की है, वहीं सीएम कमलनाथ ने कांग्रेस सरकारों के मुख्यमंत्रियों सहित कांग्रेस नेताओं को डिनर दिया| दिल्ली में हो रही इन मुलाकातों से सियासी सरगर्मियां बढ़ गई हैं| सीएम के दो दिन दिल्ली में रहने और वरिष्ठ पदाधिकारियों से मुलाक़ात के दौरान मंत्रिमंडल विस्तार और प्रदेश संगठन में बदलाव पर फैसला हो सकता है| इससे पहले भी कमलनाथ दिल्ली पहुंचे 

दरअसल, लोकसभा चुनाव के बाद से ही कांग्रेस संगठन में बड़े बदलाव की चर्चा है, वहीं प्रदेश अध्यक्ष को लेकर भी फैसला होना है, लेकिन राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गाँधी से मुलाकात न हो पाने के चलते कमलनाथ अब तक कोई फैसला नहीं कर पाए | वहीं आगामी दिनों में कैबिनेट विस्तार की रूपरेखा बनाई जानी है, लेकिन इस सम्बन्ध में कोई फैसला नहीं हो पाया| जबकि इसके संकेत साफ़ थे कि लोकसभा चुनाव बाद मंत्रिमंडल में फेरबदल होना है, यहां तक कि नाराज विधायकों को इसका आश्वासन भी दिया जा  चुका है| कुछ विधायक सिर्फ मंत्रिमंडल विस्तार का इंतजार कर रहे हैं, इनमे वो भी शामिल हैं जो सरकार को समर्थन दे रहे हैं| 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लेकर असमंजस की स्थिति के बीच प्रदेश कांग्रेस के दो बड़े नेताओं की दिल्ली में सक्रियता से इस बात की संभावना है कि फेरबदल को लेकर चर्चा हो| सिंधिया ने गुरुवार को अपने समर्थक मंत्रियों के साथ दिल्ली में बैठक की। जो मंत्री वहां सिंधिया से मिले उनमें गोविंद सिंह राजपूत, तुलसीराम सिलावट, प्रद्युम्न सिंह तोमर, डॉ. प्रभूराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसौदिया और इमरती देवी शामिल हैं। कुछ समय पहले तक सिंधिया के साथ रहने वाले लाखन सिंह यादव बैठक में नहीं थे। इस दौरान सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाये जाने की मांग भी उठी| वहीं शुक्रवार को दिल्ली में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस नेताओं को भोज पर आमंत्रित किया। इसमें नाथ सहित कांग्रेस शासित अन्य चार राज्यों के मुख्यमंत्री अशोक गेहलोत, भूपेश बघेल, अमरिंदर सिंह और नारायण सामी के अलावा अहमद पटेल, आनंद शर्मा और दिग्विजय सिंह विशेष रूप से बुलाए गए थे। नीति आयोग की शनिवार को होने वाली बैठक से पहले इन मुख्यमंत्रियों ने पूरी रणनीति तैयार की | यह बैठक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के दिल्ली स्थित आवास पर रखी गई थी। जहां इन सभी मुख्यमंत्रियों को रात्रिभोज भी दिया गया।