सिंधिया प्रतिमा को मिली नई जगह, बंगाली चौराहे से हटाकर जैन मंदिर के सामने किया शिफ्ट

इंदौर में सिंधिया प्रतिमा बंगाली चौराहा से हटाकर नए स्थान पर स्थापित की गई है। यह कार्य बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया सहमति के बाद किया गया।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री माधवराव सिंधिया (Former Union Minister Madhavrao Scindia) की प्रतिमा बंगाली चौराहे से रविवार को इंदौर नगर निगम द्वारा हटाई गई। हालांकि प्रतिमा को हटाए जाने के पीछे कोई राजनैतिक मकसद नहीं है बल्कि विकास कार्य को बढ़ावा देना है और इसी चरण के तहत आज ये कदम उठाया गया। बता दें कि कुछ माह पहले बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (BJP MP Jyotiraditya Scindia) भी इंदौर आये थे और उन्होंने नए स्थान को देखकर संतोष जताया था।

यह भी पढ़ें:-गुना को ग्वालियर यूनाइटेड नेशनल आर्मी कहने पर विधायक ने जताई आपत्ति

दरअसल, इंदौर के बंगाली चौराहे पर स्थापित पूर्व केंद्रीय मंत्री और दिवंगत राजनेता माधवराव सिंधिया की प्रतिमा को ओव्हर ब्रिज निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए दूसरी जगह स्थान्तरित किया गया। बंगाली चौराहे से समीप के जैन मंदिर के सामने शिफ्ट की गई सिंधिया प्रतिमा को राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की सहमति के बाद ही शिफ्टिंग के काम को आगे बढ़ाया गया।

यह भी पढ़ें:-जबलपुर CMHO ने सभी विभाग प्रमुखों को लिखा पत्र, कहा वैक्सीन के दोनों डोज नहीं तो वेतन नहीं

प्रतिमा स्थापना के समय कैबिनेट मंत्री तुलसीराम सिलावट, बीजेपी नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे और आईडीए के पूर्व अध्यक्ष मधु वर्मा मौजूद रहे। इस दौरान मंत्री तुलसीराम सिलावट ने फ्लाईओवर का दौरा भी किया। उसके बाद माधवराव सिंधिया की प्रतिमा स्थापित करने के पहले पूजन किया। दूसरे स्थान पर स्थापना के बाद मंत्री तुलसीराम सिलावट ने स्वर्गीय पूर्व मंत्री माधवराव सिंधिया के जीवन के बारे में किए गए कार्यों की चर्चा की। उन्होंने कहा कि मंत्री पद पर रहते हुए माधवराव सिंधिया जी ने कई जन कल्याणकारी कार्य किए गए। जिसमें मुख्य तौर पर इंदौर – महाराष्ट्र रेल लाइन, आईआईएम जैसे संस्थान भी उनकी देन रहे है।

कार्यपालन यंत्री गिरिजेश शर्मा ने बताया कि नियम अनुसार ब्रिज निर्माण का काम 2 वर्ष में पूरा होना था लेकिन प्रतिमा के सही स्थान के चुनाव के चलते निर्माण में विलम्ब हुआ है। साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना के चलते लगे लॉक डाउन के कारण मेट्रो प्रोजेक्ट के भी काम रोकना पड़े है, जिसके कारण और ब्रिज बनने में लंबा समय लग गया। हालांकि कार्यपालन यंत्री ने बताया कि फिलहाल, ओव्हर ब्रिज में टोटल चार स्पॉन लगाने बाकी है और अगले 6 माह में जनता को ब्रिज की सौगात मिलने की संभावना भी जताई।