इस बड़ी तैयारी में शिवराज सरकार, Scindia ने लिखा था पत्र, जल्द जारी हो सकते हैं आदेश

MP: दरअसल Scindia के पत्र के बाद विमानन विभाग ने इसके लिए प्रस्ताव बनाकर वित्त विभाग को भेज दिया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मप्र (MP) में सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने सिंधिया (Scindia) की मांग पर विचार करना शुरू कर दिया है। शिवराज सरकार बड़ी तैयारी में है। इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj singh chouhan) ने राज्य में विमानन टरबाइन ईंधन (ATF) पर मूल्य वर्धित कर (VAT) को 23 प्रतिशत से घटाकर 4 प्रतिशत करने की घोषणा कर सकती है।

दरअसल विमानन विभाग ने इसके लिए प्रस्ताव बनाकर वित्त विभाग को भेज दिया है। माना जा रहा है कि 1 सप्ताह के अंदर इसके लिए आदेश जारी किया जा सकता है। राजधानी भोपाल और इंदौर को छोड़कर देश के अन्य शहरों से हवाई अड्डे पर ATF भरवाने पर 4% वैट लगता है जबकि प्रदेश के प्रति सप्ताह 588 फ्लाइट उतरती है।

Read More: MP में बढ़े कोरोना के केस, एक्टिव केस 114, इन जिलों में मिले संक्रमित

बता दें कि इससे पहले केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) ने मध्य प्रदेश में उड़ानों को आकर्षित करने और राज्य में हवाई संपर्क में सुधार के लिए विमानन टरबाइन ईंधन पर वैट में कमी की मांग की थी। सिंधिया ने प्रदेश के सीएम शिवराज (CM Shivraj) को ATF (विमानन टरबाइन ईंधन) पर मूल्य वर्धित कर (VAT) को कम करने के लिए एक पत्र लिखा था। सिंधिया ने कहा था कि देश के आठ-नौ राज्य हैं, जहां यह एक से चार प्रतिशत की सीमा में VAT है। जिसके कारण उन राज्यों से उड़ानों में 15 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में एटीएफ पर वैट के अलग-अलग स्लैब हैं, जो चार फीसदी से लेकर 25 फीसदी तक हैं।

सिंधिया ने कहा था कि राज्य सरकार से इसे एक से चार प्रतिशत की सीमा में कम करने और उड़ान कनेक्टिविटी बढ़ाने और अधिक उड़ानें शुरू करने के लिए इसे पूरे राज्य के लिए एक समान बनाने का अनुरोध करता हूं।जिससे यदि मध्य प्रदेश में ऐसा होता है और वैट समान रूप से लागू होता है, तो मैं मप्र से और उड़ानें शुरू करने के लिए विमानन कंपनियों को साथ लाने का प्रयास करूंगा।

हालांकि सिंधिया ने कहा कि मध्य प्रदेश में, खजुराहो, जबलपुर और ग्वालियर हवाई अड्डों पर वैट चार प्रतिशत है जबकि राज्य के अन्य हवाई अड्डों पर यह 25 प्रतिशत है।जिसे एक से चार प्रतिशत की सीमा में लाया जाना चाहिए।