शिवराज सरकार का एक और बड़ा फैसला- मेडिकल कॉलेज समेत इन्हें मिलेगा लाभ

डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि इकाईयों को प्रचलित विद्युत टेरिफ पर एक रूपये प्रति यूनिट की छूट दी जायेगी। उक्त छूट MPERC द्वारा दी जा रही छूट, यदि कोई हो, के अतिरिक्त एक रूपये प्रति यूनिट होगी।

गृह मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संकटकाल (Corona Crisis) में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने एक और बड़ा फैसला लिया है।इसके तहत शिवराज सरकार ने ऑक्सीजन की समस्या के दीर्घकालीन निदान के लिए ऑक्सीजन उत्पादन के लिए अधिकतम 75 करोड़ रुपए तक की सहायता का विशिष्ट पैकेज प्रदान करने का निर्णय लिया है। इस संबंध में प्रशासन द्वारा आदेश भी जारी कर दिए गए हैं। योजना का लाभ नवीन इकाइयों, पूर्व से संचालित इकाइयों, मेडिकल कॉलेजों (Medical colleges), अस्पतालों (Hospital) और नर्सिंग होम को भी मिल सकेगा।

यह भी पढ़े.. सीएम शिवराज सिंह के निर्देश- हाई पॉजिटिविटी वाले जिलों पर विशेष ध्यान दें, सख्ती की जाए

गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता वृद्धि के लिये प्रोत्साहन के लिए विशिष्ट पैकेज अंतर्गत प्रदेश में न्यूनतम 10 क्यूबिक मीटर प्रति घंटा ऑक्सीजन उत्पादन क्षमता की इकाइयों को यंत्र एवं संयंत्र तथा भवन ( रिहायशी इलाकों को छोड़कर) में किये गये पूंजी निवेश पर 50 प्रतिशत की स्थिर दर से मूल निवेश प्रोत्साहन सहायता देय होगी। इसके तहत शिवराज सरकार द्वारा अधिकतम 75 करोड़ रूपये की सहायता प्रदान की जाएगी।

डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि इकाईयों को प्रचलित विद्युत टेरिफ पर एक रूपये प्रति यूनिट की छूट दी जायेगी। उक्त छूट MPERC द्वारा दी जा रही छूट, यदि कोई हो, के अतिरिक्त एक रूपये प्रति यूनिट होगी। इसकी प्रतिपूर्ति एमएसएमई या एमपीआईडीसी द्वारा पात्र इकाईयों को की जायेगी।इकाइयों द्वारा सुरक्षा मानकों में किए गए व्यय का 50 प्रतिशत अधिकतम एक करोड़ रुपए की प्रतिपूर्ति भी की जाएगी।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश में 12652 नए केस, 94 की मौत, सीएम बोले- बाहर से आने वालों पर हो सख्ती

डॉ. मिश्रा ने बताया कि इस सुविधा का लाभ वाणिज्यिक उत्पादन प्रारंभ दिनांक से लघु सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्योगों के लिए 3 वर्षों में तीन किश्तों में तथा वृहद उद्योगों को 5 वर्षों में पाँच किश्तों में मिल सकेगी। विशिष्ट पैकेज योजना से प्रदेश में अधिकतम स्थानों पर ऑक्सीजन उत्पादन संबंधी इकाइयाँ लगाई जा सकेगी और पूर्व संचालित इकाइयों का विस्तार भी निश्चित तौर पर होगा। इससे ऑक्सीजन संबंधी समस्या का न केवल तात्कालिक अपितु दीर्घकालिक निदान भी हो सकेगा।