शिवराज सिंह चौहान बोले- कर्फ्यू में अभी ढील नहीं, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप लें फैसला

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में संक्रमण निरंतर कम हो रहा है तथा कई जिलों में संक्रमण दर 5 प्रतिशत से भी नीचे आ गई है, फिर भी अभी कोरोना कर्फ्यू में ढिलाई नहीं दी जाएगी।

सीएम शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने साफ कहा है कि साप्ताहिक संक्रमण की दर 14% है। कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) में अभी ढील नहीं दी जाएगी। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप अपने ज़िलों की स्थिति के अनुसार कर्फ्यू बढ़ाने का निर्णय लें। जहाँ संक्रमण की दर बहुत नीचे हैं, वे बैठक कर वैज्ञानिक रूप से कर्फ्यू खोलने पर विचार करें। प्रदेश में संक्रमण दर घटी है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण दर 24% तक पहुँच गई थी, जो अब 11.8% हो गई है।

यह भी पढ़े.. MP Board: नहीं होगी 10वीं की परीक्षा, 12वीं को लेकर सरकार का बड़ा फैसला

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि #COVID19 संक्रमण अभी रहेगा। हमें इससे बचने के लिए अपने आचरण में बदलाव लाना होगा। गाँव और शहर के लोगों से आग्रह है कि लंबे समय तक अब बड़े आयोजन नहीं हो पाएंगे। परिस्थिति सामान्य होने के बाद भी हमें सावधानी बरतना है। प्रदेश में कोरोना के 8087 नए प्रकरण आए हैं, परंतु अभी बिल्कुल भी ढिलाई नहीं करनी है, पूरी कड़ाई के साथ कोरोना के विरूद्ध जंग लड़नी है। आप सभी के सहयोग से हम मध्यप्रदेश को शीघ्र ही कोरोना मुक्त करेंगे।

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मैं निवेदन करता हूँ कि अभी हमें ढिलाई नहीं बरतनी है। हमें अभी सावधानी का पालन करते रहना है। संक्रमण की चेन को हमें ही तोड़ना है।एक स्वास्थ्य समिति बनाई जाए जिसमें गाँव के पटेल, मुकद्दम सहित महत्त्वपूर्ण लोग हों। वे लोग गांव में जनजागरुकता फैलाने का कार्य करेंगे।कोरोना कर्फ्यू के माध्यम से संक्रमण की चेन तोड़ने का कार्य किया जा रहा है तथा किल कोरोना अभियान के माध्यम से मरीजों की पहचान कर उनकी जाँच कर उनका इलाज किया जा रहा है। साथ ही प्रदेश में 18 वर्ष से ऊपर वालों तथा 45 वर्ष से ऊपर वालों का वैक्सीनेशन भी किया जा रहा है।

यह भी पढ़े.. मध्य प्रदेश के इन जिलों में जारी रहेगी सख्ती, बढ़ाया गया कोरोना कर्फ्यू

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में संक्रमण निरंतर कम हो रहा है तथा कई जिलों में संक्रमण दर 5 प्रतिशत से भी नीचे आ गई है, फिर भी अभी कोरोना कर्फ्यू में ढिलाई नहीं दी जाएगी। हमें संक्रमण की चेन को पूरी तरह तोड़ना है। न्यूनतम संक्रमण वाले जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप आने वाले समय में कर्फ्यू खोलने के लिए फार्मूला बना लें। प्रदेश में आगामी एक माह में 2400 स्वास्थ्य कर्मियों की भर्ती की जाएगी। इनमें 800 डॉक्टर, 800 नर्स तथा 800 टेक्नीशियन होंगे।