नकली इंजेक्शन मामला : SIT की गिरफ्त में हरकरण, सरेंडर करने पहुंचा था कोर्ट

नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन मामले का आरोपी हरकरण सिंह को एसआईटी की टीम ने पकड़ लिया है। हरकरण सरेंडर करने कोर्ट पहुंचा था, जिसकी भनक एसआईटी को लग गई।

रेमडेसिविर इंजेक्शन

जबलपुर, संदीप कुमार। नकली रेमडेसिवीर इंजेक्शन मामले में फंसे सिटी हॉस्पिटल (City Hospital Jabalpur) के डायरेक्टर सरबजीत सिंह मोखा का बेटा हरकरण सिंह सोमवार को न्यायालय सरेंडर करने पहुंचा था, जिसे पुलिस ने पहले ही कोर्ट कैंपस के पास से दबोच लिया।

यह भी पढ़ें:-नकली इंजेक्शन मामला : आरोपी मोखा की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव, रिमांड पर लेगी एसआईटी

जानकारी के मुताबिक सिटी अस्पताल संचालक हरकरण सिंह मोखा अपने आप को कोर्ट में सरेंडर करने पहुंचा था। यह भनक जैसे ही एसआइटी टीम को लगी, वैसे ही वह मौके पर जाकर बैठ गए। कुछ देर बाद हरकरण सिंह मोखा जिला कोर्ट पहुंचा और अपने आपको आत्मसमर्पण करने की फिराक में था, तभी पहले से वहां बैठी एसआइटी की टीम उसे ने गिरफ्तार कर अपने साथ ले गई।

हरकरण को गिरफ्तार करने के लिए जबलपुर पुलिस की टीम दिल्ली सहित अमृतसर पुलिस से संपर्क बनाए हुए थी। गौरतलब है कि नकली इंजेक्शन सप्लाई के मामले में एसआईटी जांच कर रही हैं। ओमती थाना में दर्ज प्रकरण में अभी सरबजीत सिंह मोखा और देवेश चौरसिया पर 308 लगाई गई है। वहीं जबलपुर एसपी ने हरकरण सिंह मोखा पर 5 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था।