‘सरकार’ में तकरार के बाद दो मंत्रियों को बाहर करने की अटकलें

speculation-in-the-cabinet-reshuffle-and-may-be-two-minister-out

भोपाल| लोकसभा चुनाव के बाद से ही प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें जोरों पर है| हालाँकि मुख्यमंत्री कमलनाथ खुद इन अटकलों पर विराम लगाते हुए यह कह चुके हैं कि उन्होंने अभी इस बारे में नहीं सोचा| जबकि इसके उलट सियासी चर्चाओं से राजनीति गरमाई हुई है| इस बीच नई चर्चा है कि अगले एक दो दिन में कमलनाथ दो मंत्रियों को कैबिनेट से बाहर कर सकते हैं| एक निर्दलीय और बसपा विधायक को कैबिनेट में शामिल करना इसकी वजह बताई जा रही है| यह चर्चा तब हो रही है जब सरकार के अंदर कुछ मंत्रियों के बगावती तेवर सामने आये हैं| जिसके बाद कमलनाथ बड़ा फैसला ले सकते हैं| 

बुधवार को कैबिनेट में हुई तीखी नोकझोंक के बाद गुरूवार को प्रदेश की राजनीति में सरकार के अंतर्विरोध की चर्चा गरमाई रही| मंत्रिमंडल में फेरबदल और दो मंत्रियों को हटाने की अटकलें भी इस दौरान जोर शोर से उठ रही हैं| इस बीच सिंधिया गुट के मंत्री गोविंद राजपूत ने मीडिया से दो टूक शब्दों में कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ को मंत्री-विधायकों के लिए समय देना चाहिए। कमलनाथ हमारे नेता हैं अपनी बात रखने हम उन्हीं के पास जाएंगे| वहीं निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शेरा पहले ही दावा कर चुके हैं कि उनका मंत्री बनना तय है| खबर है कि एक दो दिनों में बड़ा फेरबदल किया जा सकता है| फिलहाल यह बताया जा रहा है कि निर्दलीय विधायकों को जगह देने के लिए दो मंत्री हटाए जा रहे हैं. हालांकि, कमलनाथ मंत्रिमंडल में अभी 28 मंत्री हैं. संख्या के हिसाब से 35 मंत्री बनाए जा सकते हैं. यानि किसी मंत्री को हटाए बिना भी सपा-बसपा या निर्दलीय विधायकों को जगह दी जा सकती है|

मंत्रिमंडल से किसकी छुट्टी होगी इसको लेकर चर्चाएं गर्म हैं| मंत्रिमंडल विस्तार की ख़बरों से सबसे ज्यादा सक्रियता सिंधिया खेमे में दिख रही है| पिछले दिनों इन सभी मंत्रियों की एक बैठक दिल्ली और भोपाल में हो चुकी हैं| इस बैठक के बाद ही कैबिनेट में मंत्री और मुख्यमंत्री के बीच तीख नोकझोंक सियासी सुर्खियां बनी है, वहीं बीजेपी को दवाब बनाने का मौक़ा मिला है| ऐसे में कमलनाथ बड़ा फैसला ले सकते हैं|  बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में मंत्री प्रद्युम्‍न सिंह की सीधी सीएम कमलनाथ से तकरार हुई थी| बताया जाता है कि सीएम कमलनाथ ने यह तक कह दिया था कि उन्‍हें पता है वह किसके कहने पर चल रहे हैं|  फिलहाल कोई भी नेता खुलकर इस विषय पर बात नहीं कर रहा है, वहीं बीजेपी एक बार फिर सरकार को निशाने पर ले रही है|