मास्क न पहनने पर महिला की पिटाई का मामला, राज्य महिला आयोग ने की निंदा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मास्क न पहनने पर पुलिस द्वारा महिला की बर्बर पिटाई की राज्य महिला आयोग ने निंदा की है। मध्यप्रदेश राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने मास्क न पहनने को लेकर सागर में पुलिस द्वारा की गई एक महिला की बर्बर पिटाई की घटना को निंदनीय, अमानवीय और शर्मनाक बताया है। उन्होने कहा कि कोविड पीड़ि महिलाओं तक को दुष्कर्म से न बचा पाने वाली पुलिस महिलाओं पर ही अत्याचार कर रही है।

मुरैना : महिला हेड कांस्टेबल ने आरआई पर लगाए गंभीर आरोप, दी आत्मदाह की चेतावनी

गुरूवार को जारी एक वक्तव्य में वायरल वीडियो के आधार पर शोभा ओझा ने मुख्यमंत्री, गृहमंत्री और प्रदेश पुलिस को कटघरे में खड़ा किया है। उन्होने कहा कि पूरे संक्रमण काल में कोविड पीड़ित महिलाओं के साथ दरिंदगी और छेड़छाड़ की कई घटनाएं प्रदेश के अनेक हिस्सों में हुई, वहीं पुलिस और प्रशासन की असंवेदनशीलता और लापरवाही के कारण ऐसी शर्मनाक घटनाएं आज भी बदस्तूर जारी हैं। उन्होने कहा कि प्रदेश की पुलिस जो व्यवहार राज्य की महिलाओं से कर रही है दरअसल वह व्यवहार उसे उन अपराधियों के साथ करना चाहिए जो बेखौफ होकर “नारी सुरक्षा” के नारे का मखौल उड़ाते हुए कोविड पीड़ित महिलाओं तक के साथ दुर्व्यवहार करने से बाज नहीं आ रहे हैं।

बता दें कि सागर जिले के रहली कस्बे में कोरोना कर्फ्यू के दौरान एक महिला सब्जी खरीदने बाजार पहुंची थी और उसने मास्क नहीं लगाया था। इसपर पुलिस ने महिला को पकड़कर खींचा और उसकी पिटाई कर दी। ये वीडियो वायरल होने के बाद से लगातार पुलिस की इस हरकत की निंदा हो रही थी। अब राज्य महिला आयोग ने भी इस घटना को निंदनीय बताते हुए आलोचना की है।